Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

स्वस्थ तन

स्वस्थ तन को जांचे कैसे
क्या कुछ करने है उपाय
प्रतिदिन करके आठ जतन
तंदरुस्ती शरीर खुद ही बताय
बिना मेहनत के हो पेट सफा
तो पाचन अच्छा है बना
पोष्टिक भोजन सेवन करके
सभी अंग खुश खुश हो जाए
कडी भूख की रोज हो आमद
बिन उसके ना भोजन धारण
श्रम शरीर जो करे नियमित
पेट सुधा भी रहे व्यवस्थित
नींद मुक्त हो चिंताओ से
जिसे सीख ले नवजातो से
बिस्तर पडते ले आगोशो मे
गहन निद्रा दे हर रोग भगाय
चमकदार हो अपनी त्वचा
दाग मुँहासे से दूर सदा
भीतर ना हो रुग्ण जरा भी
खिली कांति से रूप खिला
शरीर भार बढे ना कभी
ग्रहण वसा मात्रा थोडी
चुस्ती फुर्ती बनी रहे सदा
बुढापा फिर ना बने सजा
अंग दुखे जो समय समय पर
बतलावे यह रोग कही पर
दूर करने का एक उपाय
कर्मठ जीवन ही राह दिखाए
आठ मे से पांच प्रहर
ऊर्जा से भर रहे ठहर
हंसते निबटे रोज के काज
आराम ना पल भर आए याद
आशावान बने यह जीवन
सकारात्मक सोच पाये यौवन
दुनिया मे फिर बढता जाए
प्रफुल्लित मन और स्वस्थ तन

संदीप पांडे “शिष्य “

Language: Hindi
3 Likes · 128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
कलियुगी रिश्ते!
कलियुगी रिश्ते!
Saransh Singh 'Priyam'
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
There is no shortcut through the forest of life if there is
There is no shortcut through the forest of life if there is
सतीश पाण्डेय
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
टिप् टिप्
टिप् टिप्
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️वो भूल गये है...!!✍️
✍️वो भूल गये है...!!✍️
'अशांत' शेखर
कोशिशें अभी बाकी हैं।
कोशिशें अभी बाकी हैं।
Gouri tiwari
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
न कोई चाहत
न कोई चाहत
Ray's Gupta
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
मेरे देश के युवाओं तुम
मेरे देश के युवाओं तुम
gurudeenverma198
गिरधर तुम आओ
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ संडे स्पेशल
■ संडे स्पेशल
*Author प्रणय प्रभात*
नया साल
नया साल
Dr Archana Gupta
# अव्यक्त ....
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
मनमीत मेरे
मनमीत मेरे
Dr.sima
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
नवाब तो छा गया ...
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता
पिता
Dr.Priya Soni Khare
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
Surinder blackpen
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सजाता कौन
सजाता कौन
surenderpal vaidya
बेचैन कागज
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
मालूम था।
मालूम था।
Taj Mohammad
एक सुबह की किरण
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
💐अज्ञात के प्रति-121💐
💐अज्ञात के प्रति-121💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...