Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2022 · 1 min read

स्वर कोकिला लता मंगेशकर जी की याद में …

लो एक सितारा और टूटा ,
संगीत के आकाश से ।
एक मणि और छूटा ,
भारत के बाहु पाश से ।
एक वीणा की तार टूटी ,
और स्वर लहरी खो गई ।
धरती की मां शारदे ,
स्वर्ग की मां शारदे में समा गई ।
करके अनाथ अंगिनित गीतों को ,
स्वर साम्राज्ञी कहां खो गई ।
भावनाओं के गुलशन की एक अमरबेल ,
लता सहसा लुप्त हो गई ।
पार्थिव से आत्मिक रूप लेकर,
वोह देवी अब स्मृति में ही रह गई ।
परंतु जाते जाते भी अपने गीतों का
अमूल्य खजाना दुनिया को बांट गई ।
वोह सांवली सलोनी कोयल ,
धरती से उड़ कर अनंत आकाश में ,
विलीन हो है ।

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Likes · 6 Comments · 246 Views

Books from ओनिका सेतिया 'अनु '

You may also like:
■ ख़ुद की निगरानी
■ ख़ुद की निगरानी
*Author प्रणय प्रभात*
बोलती तस्वीर
बोलती तस्वीर
राकेश कुमार राठौर
जो भी आ जाएंगे निशाने में।
जो भी आ जाएंगे निशाने में।
सत्य कुमार प्रेमी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भूले बिसरे दिन
भूले बिसरे दिन
Pratibha Kumari
आर्य समाज का वार्षिकोत्सव
आर्य समाज का वार्षिकोत्सव
Ravi Prakash
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
Taj Mohammad
'रावण'
'रावण'
Godambari Negi
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
हम दोनों के दरमियां ,
हम दोनों के दरमियां ,
श्याम सिंह बिष्ट
भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे
भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️खंज़र चलाते है ✍️
✍️खंज़र चलाते है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
तानाशाहों की मौत
तानाशाहों की मौत
Shekhar Chandra Mitra
एक दिन !
एक दिन !
Ranjana Verma
ज़िंदगी भी समझ में
ज़िंदगी भी समझ में
Dr fauzia Naseem shad
ऐ जोश क्या गरज मुझे हूरो-कसूर से, मेरा वतन मेरे लिए जन्नत से
ऐ जोश क्या गरज मुझे हूरो-कसूर से, मेरा वतन मेरे...
Dr Rajiv
फर्ज अपना-अपना
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
बाबू जी
बाबू जी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
ताउम्र लाल रंग से वास्ता रहा मेरा
ताउम्र लाल रंग से वास्ता रहा मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो
हमसे वफ़ा तुम भी तो हो
gurudeenverma198
हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।
हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।
Annu Gurjar
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Sahityapedia
समय का इम्तिहान
समय का इम्तिहान
Saraswati Bajpai
Loading...