Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2022 · 1 min read

स्वर कटुक हैं / (नवगीत)

:: स्वर कटुक हैं ::
———————

स्वर कटुक हैं
आरती के
औ’ अजानों के ।

खुल गई हैं
फिर दुकानें
यज्ञ, हवनों औ’कथा कीं ।
प्रार्थना,अर-
दास, पूजा
औ’ नमाज़ों कीं, दुआ कीं ।

मूल्य घटते
जा रहे
पावन बयानों के ।

तर्क देकर
पाप छिपते
और छिपतीं वासनाएँ ।
अर्थ-लिप्सा
अंध भक्ति
रच रहीं जैसे ऋचाएँ ।

पैर विचलित
ध्यान के भी
कुछ ठिकानों के ।

मौलवी हैं,
पादरी हैं
और हैं पण्डे बहुत से ।
कर्म त्यागे
धर्म के ही
डालते डण्डे बहुत से ।

पाठ नकली
कर रहे
फिर से पुरानों के ।

स्वर कटुक हैं,
आरती के
औ’ अजानों के ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।

Language: Hindi
Tag: गीत
12 Likes · 11 Comments · 173 Views
You may also like:
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कई सूर्य अस्त हो जाते हैं
कवि दीपक बवेजा
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
दुआ
Alok Saxena
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️हैरत है मुझे✍️
'अशांत' शेखर
रावण कौन!
Deepak Kohli
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मुझे छल रहे थे
Anamika Singh
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
आदिवासी -देविता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मजदूर की रोटी
AMRESH KUMAR VERMA
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
भावना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परिवार के दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
Writing Challenge- दोस्ती (Friendship)
Sahityapedia
मैंने मना कर दिया
विनोद सिल्ला
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
शहर-शहर घूमता हूं।
Taj Mohammad
" हालात ए इश्क़ " ( चंद अश'आर )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
दीप बनकर जलो तुम
surenderpal vaidya
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
ऊपज
Mahender Singh Hans
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
Loading...