Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 25, 2020 · 2 min read

स्वर्ग नरक का फेर

अनादि काल से मान्यता चली आ रही है
यह जन्म है पिछले जन्म के कर्मों का फेर
इसी आधार पर भगवान ने बनाया हमें
किसी को गरीब किसी को कुबेर
प्राचीन काल से ही विद्वान कहे की
वृद्धावस्था काल में शरीर होगा क्षीन
यमदूत ले जाएंगे हमारी सांस निकालकर
माटी में विलीन होंगे सभी एक दिन
इस जन्म के कर्म से होगा फैसला
जब होगा हमारी जीवात्मा का अंत
यमराज पढ़ेंगे तब अपना फरमान
कौन भोगेगा स्वर्ग कौन भागेगा नरक
सब कहे स्वर्ग नरक की दुनिया न्यारी
धरती से परे आकाश पाताल में हैं
हूर की परियां मिले स्वर्ग में
नरक बेईमानों के जंजाल में हैं
जन्म के समय भाग्य लिखे बेमाता
हम इसी के अनुसार बढ़ते हैं
भविष्य का लेखा-जोखा पहले से तय
हम सिर्फ अपनी भूमिका अदा करते हैं
मीनू को एहसास हुआ आज
कहीं तो कुछ छूटा हुआ है
कर्मों का फल तो है गत जन्म का लेकिन
बेमाता ने सिर्फ 80% ही लिखा है
बाकी का 20% हम लिखेंगे
यौवन अवस्था तक कर्म करने का मौका है
इसी जन्म के कर्मों के अनुसार
अगला जन्म जरूर ढलेगा
लेकिन वृद्धावस्था में सबको
स्वर्ग नरक तो इसी जन्म में मिलेगा
जो बुढ़ापे में मन की शांति पाय
हंसते चलते धरती से चला जाए
हमसफर के हाथों दाह संस्कार करवाएं
यम के साथ पूरा परिवार देखकर जाए
यही कर्मों से मिला स्वर्ग है बंदे
क्यों अंधविश्वास से खुद को बहलाए
नरक मिला जिसे यहां वह
मुक्ति के लिए भी छठपटाता है
जीवनसाथी से अलग होकर वह
तन्हा दुख का नरक भोग कर जाता है
इंतकाल के बाद कुछ नहीं मिलेगा
स्वर्ग नरक सब वृद्धावस्था में खिलेगा
यौवन काल तक का सब हिसाब
वृद्धावस्था में चुकाना होता है
तभी करता यमराज हमारी मुक्ति
यही तो हमारा भाग्य विधाता है

1 Like · 1 Comment · 318 Views
You may also like:
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
✍️सलं...!✍️
'अशांत' शेखर
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेजुबान
Dhirendra Panchal
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कवि का कवि से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
जीवन और मृत्यु
Anamika Singh
*पंडित ज्वाला प्रसाद मिश्र और आर्य समाज-सनातन धर्म का विवाद*
Ravi Prakash
एक मुठी सरसो पीट पीट बरसो
आकाश महेशपुरी
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
“ कोरोना ”
DESH RAJ
✍️कसम खुदा की..!✍️
'अशांत' शेखर
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
कर्म
Anamika Singh
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
$$सत्संगेन विवेक: जाग्रत: भवति$$
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तमाम उम्र।
Taj Mohammad
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मित्र
Vijaykumar Gundal
Loading...