Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 25, 2016 · 1 min read

स्वयंकोविश्वरूप संशयमुक्तजानकर:: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट१०८)

राजयोगमहागीता: घनाक्षरी
————————
स्वयंको विश्वरूप संशय मुक्त जान कर ,
आत्मरूप का स्वयं मान करना चाहिए ।
देह से असंग मैं यह देह मेरी है नहीं ,
देह का मोह न बखान करना चाहिए ।
मैं तो हूँ चैतन्य स्वरूप , न कि जीव रूप हूँ ।
किसी का भी न अपमान करना चाहिए ।
उसमें संतुष्ट रहो , जितना जीवन मिला ।
उतना पूर्णता से ध्यान करना चाहिए ।।

—– जितेंद्रकमलआनंद
रामपुर ( उ प्र )

109 Views
You may also like:
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
यादें
kausikigupta315
पिता का दर्द
Nitu Sah
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष
Sushil chauhan
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
तीन किताबें
Buddha Prakash
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
पंचशील गीत
Buddha Prakash
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
Loading...