Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#16 Trending Author
May 10, 2022 · 1 min read

स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।

शंखनाद की गुंज उठी, युद्ध तो अभी बाकी है।
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
प्रज्ज्वलित दरिया के समक्ष खड़ी मैं, पार उतरना बाकी है।
ना नय्या ना खेवय्या, आत्मविश्वास की पाल संभाली है।
राह में गरजते भंवरों पर, हिम्मत की हूंकार भी तो काफी है।
चोटिल हुए भावनाओं के, अब कत्ल की भी तो तैयारी है।
स्यंम की टूटी सीमा का, बस धाराशायी होना बाकी है।
पाषाण हो चुकी संवेदनाएं, बस तोड़- बिखेरना काफी है।
हृदय की मृत्यु तो कब की हो चुकी, अब सांसों का उखड़ना बाकी है।
ना आदि, ना ही अंत, पर सफर अभी भी जारी है।
मध्यांतर में इसके हीं, घनघोर संघर्ष की बारी है।
असत्य ने सदैव थी, बाजी मारी, आज सत्य ने की तैयारी है।
मलीनता के धब्बों का अब भी, उस आंचल पर पड़ना बाकी है।
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।

2 Likes · 73 Views
You may also like:
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
के के की याद में ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
# हे राम ...
Chinta netam " मन "
सब खुदा हो गये
"अशांत" शेखर
दया***
Prabhavari Jha
✍️निज़ाम✍️
"अशांत" शेखर
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पापा!
Anamika Singh
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
☆☆ प्यार का अनमोल मोती ☆☆
Dr. Alpa H. Amin
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर रोज योग करो
Krishan Singh
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
Loading...