Oct 6, 2016 · 1 min read

स्नेह और नीर …..:मुक्तक

स्नेह से नीर मित्र भारी है
किन्तु इनकी सदा से यारी है
स्नेहवश नीर उपजे आँखों में
जिसमें डूबी जमीन सारी है

आज समवेत स्वर में गायें हम
गीत में भावना जगाएं हम
स्नेह उपजे सभी के मन में फिर
नीर को मिल के अब बचाएं हम

धूप जीवन में आनी जानी है
छाँव सबको लगे सुहानी है
नीर के स्रोत हों पुनर्जीवित
प्यास अधरों की यदि बुझानी है

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

151 Views
You may also like:
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
सुमंगल कामना
Dr.sima
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
घड़ी
Utsav Kumar Vats
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
अथक प्रयत्न
Dr.sima
*"पिता"*
Shashi kala vyas
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
Loading...