Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 1 min read

स्त्री श्रृंगार

भद्रकाली का रूप छुपा स्त्री में,उसे बिंदी शांत कराती है।
सारी नकारात्मकता स्त्री की,काजल लगते ही चली जाती है।।
होठों पर वो लगा कर लाली,जीवन में प्रेम के रंग बिखराती है।
पहन के नाक में नथनी हर स्त्री,करुणा का सागर बन जाती है।।
कानो में वो पहन के कुंडल,स्त्री कितनी दयावान बन जाती है।
बांधती है परिवार को चूड़ियों में,इसलिए कभी भी चूड़ी नही मौलाती है।।
पहन के वो पाजेब जब सारे घर आंगन में लहराती है।
मचलती फिरती उसकी खनक पर,प्रेम में वो बंध जाती है।।
अपनी रूपसज्जा के रूप में स्त्री,अपने अंदर पूरा ब्रह्मांड समाती है।
यही सनातन की संस्कृति है, यही स्त्री को विश्व में सबसे महान बनाती है।।
पूछे विजय बिजनौरी तुमसे क्यों आज की नारी पश्चिमी सभ्यता को अपनाती है।
और इसी सभ्यता की आड़ में नारी क्यों अर्धनग्न हो जाती है।।
क्यों कर आज की नारी अपनी संस्कृति और सभ्यता को भूलती जाती है।
और इसी गलती के कारण वो समाज के भेड़ियों का शिकार बन जाती है।।
हर मां बाप को अपने बच्चों को धर्म की शिक्षा देना जरूरी है।
आज के युग में धर्म की शिक्षा,बाकी सभी शिक्षा से ज्यादा जरूरी है।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from विजय कुमार अग्रवाल

You may also like:
अंबेडकर और भगतसिंह
अंबेडकर और भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
वो कभी दूर तो कभी पास थी
वो कभी दूर तो कभी पास थी
'अशांत' शेखर
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
rajeev ranjan
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
कुछ दर्द।
कुछ दर्द।
Taj Mohammad
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Sakshi Tripathi
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सपनों को अपनी सांसों में रखो
सपनों को अपनी सांसों में रखो
Ms.Ankit Halke jha
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
मैथिली हाइकु / Maithili Haiku
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
"हरी सब्जी या सुखी सब्जी"
Dr Meenu Poonia
If life is a dice,
If life is a dice,
DrChandan Medatwal
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
दुआ पर लिखे अशआर
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
shabina. Naaz
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
तू भी तो
तू भी तो
gurudeenverma198
💐अज्ञात के प्रति-133💐
💐अज्ञात के प्रति-133💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
একটি চিঠির খসড়া
একটি চিঠির খসড়া
Sakhawat Jisan
Love all
Love all
Prachi Verma
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
"भीमसार"
Dushyant Kumar
■ जानिए आप भी...
■ जानिए आप भी...
*Author प्रणय प्रभात*
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
Loading...