Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Feb 21, 2021 · 3 min read

सोरठा छंद , परिभाषा एवं उदाहरण

सोरठा
सोरठा छंद अर्धसममात्रिक छंद हैं, सोरठा छंद के प्रथम और तृतीय चरणों में 11-11 मात्राएं होती हैं. और दूसरे और चौथे चरणों में 13-13 मत्राएं होती हैं.|

सोरठा छंद ,दोहा छंद का बिलकुल उल्टा होता है , इसके प्रथम और तृतीय चरण के अंत में एक गुरु और एक लघु होता है |

दूसरे- चौथे चरण के अंत में लघु गुरु होते‌ हैं , तीन लघु भी हो सकते हैं , किंतु गुरु-लघु नहीं हो सकते है , यदि अंत सोरठा यानि २१२ से हो तो अति उत्तम सृजन हो जाता है |

भट्ट मथुरानाथ शास्त्री ने अपने पूर्वज श्रीकृष्ण भट्ट कविकलानिधि का सोरठा छंद में निबद्ध संस्कृत-कविता में इन शब्दों में स्मरण किया था-

तुलसी-सूर-विहारि-कृष्णभट्ट-भारवि-मुखाः।
भाषाकविताकारि-कवयः कस्य न सम्भता:॥
(इस संस्कृत श्लोक में सम चरणों का पदांत लघु गुरु से है ,

कुछ मित्र दूसरे -चौथे चरणों में पदांत गुरु गुरु से कर देते हैं , तब कौन किसको रोक सकता है ? गलत तो गलत है , किसी महाकवि के अपवाद उदाहरण देकर परम्परा नहीं डाली जा सकती है, पर मैं उनसे कहना चाहता हूँ कि यदि इन चरणों का पदांत गुरु गुरु से सही मानते हैं , तब तो कह सकते है कि एक रोला में दो सोरठा होते हैं,या दो सोरठे एक रोला बना देते हैं

सोरठा में प्रथम – तीसरे चरणों की तुकांत बनाई जाती है , लेकिन दूसरे -चौथे चरणों की तुकांत जरुरी नहीं है ,

मात्रा बाँट का विधान अलग से देखने हमें तो नहीं मिला है , पर यह मात्रा बाँट दोहे के चरणों की तरह ही सही है , तब उसी हिसाब से मात्रा बाँट करना सही रहेगा ,
मात्रिक छंदो में समकल विषमकल का एक ही विधान है कि समकल के बाद समकल , विषमकल के बाद विषमकल सही होता है

जो सुमिरत सिधि होय, गननायक करिबर बदन।
करहु अनुग्रह सोय, बुद्धि रासि सुभ गुन सदन॥

कुंद इंदु सम देह , उमा रमन करुनायतन ।
जाहि दीन पर नेह , करहु कृपा मर्दन मयन ॥
(तुलसीदास जी)
================

रहिमन मोहि न सुहाय , अमिय पियावत मान बिन |
जो विष देत बुलाय , प्रेम सहित. मरिबो भलो ||
(रहीम जी)
======≠===========

सुभाष सिंघई के सोरठा

चलते लोग कुचाल , दुर्जन जाकर देखिए |
होते सब. बेहाल , काटते बनकर विषधर ||

कंगन का यह राज‌, पनघट छनछन क्यों बजे |
बहुत हुई आबाज , वहाँ लिपटकर डोर से ||

गोरी‌ दर्पण देख , मोहित खुद पर हो रही |
रही रूप को लेख , कनक समझती निज तन ||

नहीं बुरी है बात, अपना हित ही देखना |
चले किसी पर लात , गलत समझना साधना ||

सदा रटे प्रभु नाम , तोता ज्ञानी कब बना |
भजन जहाँ श्री राम , दर्शन मिलते भगत को ||

रावण जग बदनाम , करके एक अनीति जब |
उसकी जाने राम , करता जो ताजिंदगी ||

देकर चोट निशान , ज़ख्म कुरेदे जग सदा |
करता है अपमान , आरोपों को थोपता ||

मतलब के सब यार , मिलते रहते हैं यहाँ |
मिले हाथ में खार, फैलाकर भी देख लो ||

कमी निकालें खोज ,माल बाँटिए मुफ़्त में |
बिक जाता है रोज , कचरा जाओ बेचनें ||

बहुत मिलेगें दाम , छाया के सँग फल मिलें |
जब हों कच्चे आम ,पत्थर को मत मारिए ||

उतरे हल को ठान , हम समझे हालात को |
कड़वा पाया पान , हाथ जलाकर आ गए ||

तरह-तरह के‌‌ रोग , माना इस संसार में |
दाँव पेंच के योग , सबके अपने रोग है ||

नहीं कोई‌ नादान , ज्ञानी अब सब लोग है |
अपना ज्ञान बखान , जगह-जगह हैं बाँटते ||
============================

राजनीति पर ~सोरठा

करने को कुछ गान , गूंगे बहरे जा रहे |
उतरे है मैदान, लँगडे़ अंधे दौड़ने ||

असली आज जुबान, अंधी गूँगीं बन गई |
घूमें बना किसान ,कागा साफा बांधकर ||

अब चुनाव में शान, नोट लुटाकर जीतना |
कुर्सी के श्रीमान , अपराधी अब बन गए ||

अभी दुखी है देश , राजनीति करना नहीं |
कोई भी परिवेश , सबक सिखाना शत्रु को ||

निपटाओ गद्दार , पहले भारत देश में |
इनका प्रथम सुधार नेता हो या मजहबी ||

पाक परस्ती गान , हरदम उनकी बात करें |
सबको बंद जुवान , पहले उनकी चाहिए ||

मित्रता पर सोरठा

बात करे दो चार, मित्र सदा मिलता रहे |
लगता घर परिवार , मिलते-मिलते मित्र भी ||

मित्र करे तकरार, आलोचक से सामना |
समझो सच्चा यार,भले न तुमसे मिल सके ||

मित्र सुने चुपचाप, जहाँ बुराई आपकी |
गलत नहीं हैं आप, संशय उस पर कीजिए ||

आए तेरे काम , मित्र अगर संकट सुनें |
लेकर हरि का नाम , भाई सम उसको चुने ||

कोई एक विचार, नेक आपके पास है |
दो होगें तैयार , किसी मित्र से बदलिए ||

संकट के दौरान ,सदा मित्र का साथ हो |
रहती है मुस्कान , कट जाते हैं कष्ट सब ||

©सुभाष ‌सिंघई
एम•ए• {हिंदी साहित़्य , दर्शन शास्त्र)
(पूर्व) भाषा अनुदेशक , आई•टी •आई • )टीकमगढ़ म०प्र०
निवास -जतारा , जिला टीकमगढ़‌ (म० प्र०)
=========================

आलेख- सरल सहज भाव शब्दों से सोरठा को समझानें का प्रयास किया है , वर्तनी व कहीं मात्रा दोष हो तो परिमार्जन करके ग्राह करें |

11 Likes · 9 Comments · 27495 Views
You may also like:
आदर्श पिता
Sahil
पिता
Saraswati Bajpai
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संघर्ष
Sushil chauhan
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
विजय कुमार 'विजय'
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
मन
शेख़ जाफ़र खान
Loading...