Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

सोबन का यह अर्थ है

सोबन का यह अर्थ है,
देशज शब्द ‘सुवर्ण ‘
चमके आभा सूर्य सी,
जैसे चमके ‘कर्ण ‘

•••

चित्रकला के क्षेत्र में,
फैले खूब प्रकाश
निश्चय ही तुम एक दिन,
छू लोगे आकाश

•••

________________________
*चित्रकार सोबन सिंह के जन्मदिन पर 6 फरवरी को

2 Likes · 322 Views
You may also like:
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
Nurse An Angel
Buddha Prakash
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अरदास
Buddha Prakash
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
Loading...