Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 22, 2022 · 1 min read

सोचता रहता है वह

सोचता रहता है वह,
हरवक्त उनके बारे में,
जिनको कहता है वह,
अपना मित्र,पड़ौसी।

वह घर, जहाँ वह रहता है,
जहाँ वह कभी रहता था,
वह स्थान, जहाँ दिल लगता है,
जिनको वह मान लेता है अपना,
सोचता रहता है इनके बारे में।

ऐसे ही खुश और सुखी रहे,
ऐसे ही हमेशा आबाद रहे,
और चाहता है इसके बदले में,
इनका प्यार, विश्वास, सम्मान।

ना नींद उसकी आँखों में है,
ना चैन उसके दिल में है,
खोया रहता है हमेशा वह,
उसकी खुशी के सपनों में,
जिसको मानता है अपना,
हमराह ,हमसफर और हमदम।

बनाता है वह उसकी भी तस्वीर,
सींचता है रोज उसके चमन को,
माँगता है मिन्नतें वह ईश्वर से,
और करता है उस पर गर्व बहुत,
जिस वतन में रहता है वह,
उसके चैनो- हिफाजत के बारे में,
सोचता रहता है वह हमेशा।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

1 Comment · 64 Views
You may also like:
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️तो ऐसा नहीं होता✍️
"अशांत" शेखर
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️इँसा और परिंदे✍️
"अशांत" शेखर
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
सच्चाई का मार्ग
AMRESH KUMAR VERMA
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
✍️घुसमट✍️
"अशांत" शेखर
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
मां ने।
Taj Mohammad
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
और मैं .....
AJAY PRASAD
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिज्ञासा
Rj Anand Prajapati
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H. Amin
*#आलू_जिंदाबाद (#हास्य_व्यंग्य)*
Ravi Prakash
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
Loading...