Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2016 · 1 min read

” सोंच रहा हूँ क्या दे दूँ जो दिल से दिल की राह खुले “

******************************************
करकमलों से उसने मुझको, जब प्यारा स्पर्श दिया ।
रोम रोम पुलकित सारा , ऐसा दिल में हर्ष दिया ।
सोंच रहा क्या दे दूँ जो, दिल से दिल की राह खुले ,
अहसासों को उसने मेरे अर्श तलक उत्कर्ष दिया ।
******************************************
वीर पटेल

1 Comment · 205 Views
You may also like:
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
जीवन
vikash Kumar Nidan
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
सच एक दिन
gurudeenverma198
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H. Amin
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
मृत्यु
Anamika Singh
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
मन
शेख़ जाफ़र खान
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H. Amin
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
Ravi Malviya
शब्दों से परे
Mahendra Rai
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
देखो
Dr.Priya Soni Khare
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
Loading...