Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2020 · 1 min read

सेल्समैन

वैसे तो ज्यादातर खरीदारी मैं छोटी दुकानों या छोटे बाजार से ही करता हूँ, लेकिन जब भी मैं कभी किसी मॉल्स या बड़े बिग बाज़ार जैसे स्टोर से खरीदारी करता हूँ तो अक्सर पुरुष व महिलायें मुझे सेल्समैन समझ लेती हैं।
औऱ मुझसे वो सामान के बारे में पूछते हैं, जो उन्हें नहीं मिलता।
कभी-कभी तो परस्थिति बहुत संकोचशील हो जाती है,जब कोई महिला अपनी निजी और व्यक्तिगत चीजों के बारे में पूछती है।
मैं उन्हें बताता हूँ कि मैं भी कुछ खरीदने आया हूँ।
हालांकि सेल्समैन की अपनी एक पोशाक होती है, जिससे उनको समझने में आसानी हो, यह संयोगवश ही होता है।
पता नहीं मेरे साथ ही ऐसा होता है,या और भी लोग हैं, जिन्होंने ऐसी परिस्थिति का सामना अपने जीवन में कभी ना कभी किया होगा..!

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
1 Like · 358 Views
You may also like:
-
- "इतिहास ख़ुद रचना होगा"-
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
त्याग
त्याग
मनोज कर्ण
फाग (बुंदेली गीत)
फाग (बुंदेली गीत)
umesh mehra
सहरा से नदी मिल गई
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
बेटी
बेटी
Sushil chauhan
दिल की बात,
दिल की बात,
Pooja srijan
शोहरत नही मिली।
शोहरत नही मिली।
Taj Mohammad
आदर्श पिता
आदर्श पिता
विजय कुमार अग्रवाल
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
बदला सा......
बदला सा......
Kavita Chouhan
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
पिता के चरणों को नमन ।
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
यह चित्र कुछ बोलता है
यह चित्र कुछ बोलता है
राकेश कुमार राठौर
कण कण में शंकर
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“ चुप मत रहना मेरी कविता ”
“ चुप मत रहना मेरी कविता ”
DrLakshman Jha Parimal
मन का घाट
मन का घाट
Rashmi Sanjay
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
मानकके छडी (लोकमैथिली कविता)
मानकके छडी (लोकमैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
द्रौपदी चीर हरण
द्रौपदी चीर हरण
Ravi Yadav
👀👁️🕶️मैंने तुम्हें देखा,कई बार देखा🕶️👁️👀
👀👁️🕶️मैंने तुम्हें देखा,कई बार देखा🕶️👁️👀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
gurudeenverma198
साथ आया हो जो एक फरिश्ता बनकर
साथ आया हो जो एक फरिश्ता बनकर
कवि दीपक बवेजा
*वोट फॉर हलवा 【हास्य व्यंग्य】*
*वोट फॉर हलवा 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
तन्हाई के पर्दे पर
तन्हाई के पर्दे पर
Surinder blackpen
अगर तू नही है जीवन में ये अधखिला रह जाएगा
अगर तू नही है जीवन में ये अधखिला रह जाएगा
Ram Krishan Rastogi
शिव
शिव
Dr Archana Gupta
अफसोस न करो
अफसोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार...
Shyam Pandey
इन  आँखों  के  भोलेपन  में  प्यार तुम्हारे  लिए ही तो सच्चा है।
इन आँखों के भोलेपन में प्यार तुम्हारे लिए ही तो...
Sadhnalmp2001
Loading...