Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2022 · 1 min read

सेक्लुरिजम का पाठ

सेक्लुरिजम का पाठ पढ़ाने वालों,
हमें न अब तुम सब पढाओ।
बहुत ज्ञान दे दिए हमें
अब ज्यादा ज्ञान न बरसाओ।

इतिहास उलटकर देखो अपना,
फिर हमें तुम बताओ।
यह जातिवाद का गंदा खेल
देश में किसने खेला था,

हिंदु – मुस्लिम के नाम पर,
किसने देश हमारा बाँटा था।
किसने अपने स्वार्थ के लिए ,
देश विभाजन का चाल चला था।

इतना था भाईचारा तो
देश हमारा न बँटने देते।
भारत माँ के दो टुकड़े कर
माँ का आँचल न फाड़ते।

न लगने देते भारत माँ
पर विभाजन का कंलक।
न भारत माँ को दफनाकर
हिन्दुस्तान और पाकिस्तान बनाते।

माना कि जिन्ना मांग रहे थे
सत्ता पर अपना अधिकार ,
इतना ही तुम सेक्युलर थे तो
दे देते उन्ही को सत्ता का अधिकार।

खुद पीछे रहकर तुम
उसका साथ निभाते,
कम से कम भारत को
दो टुकड़े तो न करवाते।

विभाजन के नाम पर जो हुआ,
उसे देश ने देखा,पढा और सुना।
कहाँ था उस विभाजन में
सत्य और अहिंसा,
आज भी उसे देश ढूँढ रहा है।

अब हमें सेक्युलरिज्म का
सीख न सिखाओ ।
हम जैसे हैं वैसे ही रहने दो।
अब ज्यादा न तुम सब चिल्लाओ

अब न अपने पुरखों का
ज्यादा गुण तुम सब गाओं।
खोल दिये इतिहास अगर
सब पोल तुम्हारा खुल जाएगा।

इसलिए अब हमको सेक्लुर
होने का प्रवचन न सुनाओ।
करना ही है तो पुरखों से अलग
अपना पहचान तुम सब बनाओ।

~अनामिका

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 282 Views
You may also like:
मै तैयार हूँ
Anamika Singh
* नियम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साथ तुम्हारा
मोहन
🌸🌸व्यवहारस्य सद्य विकासस्य आवश्यकता🌸🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Rajiv Vishal
तू जाने लगा है
कवि दीपक बवेजा
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
#अपने तो अपने होते हैं
Seema 'Tu hai na'
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
आओ पितरों का स्मरण करें
Kavita Chouhan
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
समुद्र हैं बेहाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रंगे _,वफा
shabina. Naaz
कवि कर्म
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
जिन्दगी को ख़राब कर रहे हैं।
Taj Mohammad
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
✍️✍️कश्मकश✍️✍️
'अशांत' शेखर
मैं पीड़ाओं की भाषा हूं
Shiva Awasthi
सीधेपन का फ़ायदा उठाया न करो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
गीत
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
नज़रिया
Shyam Sundar Subramanian
Loading...