Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 30, 2022 · 1 min read

सृजन

सृजन

मैं सृजन का देवता हूँ ध्वंस मैं कैसे करूं,
है हलाहल कंठ में पर विष वमन कैसे करूँ ।
दासता की बेड़ियों में क्रान्ति का मैं बीज हूँ,
पर दमन के दोषियों को मैं नमन कैसे करूँ ।।

तिमिर घन के बीच जैसे दामिनी का स्वत्व है,
उस तरह संघर्षरत रहना मेरा अस्तित्व है।
सागरों को चीरकर लहरों का चलना अनवरत,
उस तरह निर्द्वन्द्व बहना ही मेरा व्यक्तित्व है ।।

हिमशिखर उत्तुंग फिर भी रश्मियाँ रवि की विरल,
है पिघलता जा रहा सदियों से हिमशिखरों का बल ।
किन्तु, फिर भी है अडिग, आसन्न वैसा ही खड़ा,
हूँ हिमालय सदृश मैं भी विघ्न, बाधा में अटल ।।

सृजन मेरा लक्ष्य है विध्वंस मैं कैसे करूँ,
शत्रुओं के बीच मित्रों का चयन कैसे करूँ ।
मंदराचल की तरह मथता रहा सागर मगर,
शीश पर धारित धरा है मैं शयन कैसे करूँ ।।

1 Like · 4 Comments · 58 Views
You may also like:
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
'अशांत' शेखर
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
✍️✍️अतीत✍️✍️
'अशांत' शेखर
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
बुजुर्गों की उपेक्षा आखिर क्यों ?
Dr fauzia Naseem shad
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
तेरी सलामती।
Taj Mohammad
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मंदिर
जगदीश लववंशी
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
चाँद और चाँदनी का मिलन
Anamika Singh
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
अपना अंजाम फिर आप
Dr fauzia Naseem shad
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
Loading...