Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

सूरज दादा ड्यूटी पर

मेरी भी कुछ दिन ड्यूटी कड़ी है।
सुनहरे भविष्य के लिये अड़ी है ।।
गाली सुन कर फिर भी तप रहा,
जब ही तो आये सावन की झड़ी है।। मेरी भी—
क्या करूँ कड़क दोपहर फिरूँ ।
तीखे लू के थपेड़ों को कैसे हरूं ।।
तुम पेड़ों से माँगों कुछ दिन छाया,
मेरी ड्यूटी उनके लिये ही लड़ी है।। मेरी भी—-
मुझे अच्छा नहीं लगता यूँ सताना।
मेरे ही तो पोते पोती है, यूँ इतराना ।।
सख्त दिल भी कभी करना पड़ता,
सोचो तपने से ही वो कुंदन जड़ी है।। मेरी भी—
सूख रहे निर्झर मुझे मिलता उलाहना।
कैसा दादा है इसे बस आग उगलना।।
तप रहा हूँ मैं, सिर्फ फर्ज निभा रहा हूँ,
तरु जो तुमने काटे उनकी भी तड़ी है।। मेरी भी—
दादा को ही कहते हो कुछ राहत भरो।
जल थल नभ, तुम क्यों आहत करो।।
मुझे तपकर ही तो बादल को है भरना,
बात नहीं तपने की कुछ ड्यूटी पड़ी है।। मेरी भी—
(रचनाकार- डॉ शिव लहरी)

Language: Hindi
1 Like · 130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. शिव लहरी
View all
You may also like:
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
Ram Krishan Rastogi
तारे-तारे आसमान में
तारे-तारे आसमान में
Buddha Prakash
पड़ जाओ तुम इश्क में
पड़ जाओ तुम इश्क में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खो गयी हर इक तरावट,
खो गयी हर इक तरावट,
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
माँ
माँ
लक्ष्मी सिंह
अहंकार और आत्मगौरव
अहंकार और आत्मगौरव
अमित कुमार
जिन्दगी और सपने
जिन्दगी और सपने
Anamika Singh
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
तुम्ही हो किरण मेरी सुबह की
gurudeenverma198
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"फंदा"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
*सरल हृदय बन जाऊँ (गीत)*
*सरल हृदय बन जाऊँ (गीत)*
Ravi Prakash
✍️बुराई करते है ✍️
✍️बुराई करते है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
याद रखते अगर दुआओ में
याद रखते अगर दुआओ में
Dr fauzia Naseem shad
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं भूल जाएँ।
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं भूल जाएँ।
Manisha Manjari
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चल कहीं
चल कहीं
Harshvardhan "आवारा"
■ मुक्तक / ख़ाली और भरा...
■ मुक्तक / ख़ाली और भरा...
*Author प्रणय प्रभात*
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
फिर झूम के आया सावन
फिर झूम के आया सावन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाँ मैं नारी हूँ
हाँ मैं नारी हूँ
Surya Barman
चलो जिन्दगी को।
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
Loading...