Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 15, 2022 · 1 min read

सूरज काका

सूरज काका अनुशासित हो, सारे नियम निभाते हैं
बैठ समय के पहिये पर ये, हमसे मिलने आते हैं

पूर्व दिशा से आकर जग में,नव संचार जगाते हैं
दिन भर तपकर थक जाते जब,पश्चिम में सो जाते हैं

वैसे तो दिल के अच्छे ये दोस्त हमारे हैं सच्चे
लेकिन कभी कभी ये हमको अपनी अकड़ दिखाते हैं

जब सर्दी के दिन आते हैं ,खुद बादल में छिप जाते
कई कई दिन नहीं निकलकर, हमको खूब सताते हैं

गर्मी के मौसम में भी यह ,करते रहते मनमानी
खूब चमक अपनी दिखलाकर, हमको रोज जलाते हैं

सदा खेलते रहते हैं ये, आँखमिचौली अपनों से
कभी धूप से नहलाते तो, कभी छाँव ले आते हैं

दुनिया सारी नत मस्तक हो,नमन ‘अर्चना’ करती है
आशाओं का नया सवेरा, सूरज काका लाते हैं

15-05-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

3 Likes · 5 Comments · 277 Views
You may also like:
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
बस एक ही भूख
DESH RAJ
हमरा अप्पन निज धाम चाही...
मनोज कर्ण
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गाफिल।
Taj Mohammad
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
याद भी तुमको
Dr fauzia Naseem shad
मनमोहन जल्दी आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️झूठा सच✍️
'अशांत' शेखर
Save the forest.
Buddha Prakash
*तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
भारत माँ पे अर्पित कर दूँ
Swami Ganganiya
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
कुछ अल्फाज़ खरे ना उतरते हैं।
Taj Mohammad
माँ
shabina. Naaz
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
सलामत् रहे ....
shabina. Naaz
Loading...