Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 3, 2022 · 1 min read

सुविचार

“जिस क्षण भी आपके मन में प्रायश्चित का भाव भी उत्पन्न हो जाता है आप उसी क्षण क्षमा योग्य हो जाते हैं”

-Gn

1 Like · 39 Views
You may also like:
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
दिल्लगी
Harshvardhan "आवारा"
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
सरकारी नौकर
Dr Meenu Poonia
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
मेरी मां।
Taj Mohammad
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
धरती की फरियाद
Anamika Singh
अब तेरा इंतज़ार न रहा
Anamika Singh
छलिया जैसा मेघों का व्यवहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक दिन तू भी।
Taj Mohammad
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"साहिल"
Dr.Alpa Amin
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
दर्द।
Taj Mohammad
" सच का दिया "
DESH RAJ
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
Time never returns
Buddha Prakash
श्री हनुमत् ललिताष्टकम्
Shivkumar Bilagrami
✍️✍️अतीत✍️✍️
"अशांत" शेखर
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...