Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Jun 3, 2022 · 2 min read

सुरज दादा

सुरज दादा इतनी जल्दी
तुम कैसे उठ जाते हो।
अपने अन्दर इतनी तेज
तुम कहाँ से लाते हो।
बताओं हमें सुरज दादा
तुम आखिर क्या खाते हो।

कितना आग भरा तुममें
क्यों नहीं हमें बतलाते हो ।
शोर मंडल का सबसे बड़ा
तुम तारा क्यों कहलातें हो।
इतने दूर होने पर भी तुम
कैसे हमें दिख जाते हो।

सुबह- शाम जो आसमान
तुम लाली फैलाते हो
बताओ हमें सुरज दादा
वह रंग कहाँ से तुम लाते हो।
अपने अन्दर तुम इतनी उर्जा
इतना प्रकाश कहाँ से लाते हो।
कैसे हर दिन अपने समय पर
तुम रोज – रोज आ जाते हो।

इतना बता दो सुरज दादा
क्यों गर्मी में हम सबको
तुम इतना तपाते हो
और जाड़े में जब हम सबको
तेरी गरम ताप की ज्यादा
जरूरत होती है।
फिर उस समय पर तुम अपनी
गर्मी कहाँ छोड़कर आते हो।

सुबह सुबह तेरे आने से
कैसे चिड़ियाँ बोलने लग जाती है।
फूलों की कलियाँ भी कैसे
तेरे आने से खिल जाती है।
बताओं हमें सुरज दादा
यह जादू तुम कैसे कर लेते हो।

मिटा अंधेरा तुम आकाश में
कैसे प्रकाश से भर देते हो।
पौधों को भी तुम कहाँ से
और कैसे भोजन दे देते हो।
क्यों तुमको लोग हमेशा
प्राण रक्षक कहकर बुलाते है।

माँ कहती है हमें सदा ही
तुम हम सबकें देवता हो।
भर प्रकाश हम सब के जीवन में
तुम अंधेरा मिटा देते हो।
अपने जीवन के पाठ से
हम – सबको आगे बढ़ने की
प्रेरणा दे जाते हो।
आखिर में तुम यह सब
कैसे कर लेते हो।

~ अनामिका

1 Like · 94 Views
You may also like:
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दर्द।
Taj Mohammad
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार "कर्ण"
पति पत्नी की नोक झोंक(हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️ज्वालामुखी✍️
'अशांत' शेखर
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नारा ए आज़ादी से गूंजा सारा हिंदुस्तां है।
Taj Mohammad
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
✍️आसमाँ के परिंदे ✍️
Vaishnavi Gupta
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
✍️कधी कधी✍️
'अशांत' शेखर
यूं भी तेरी उलफत का .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मत कहो भगवान से
Meenakshi Nagar
क़ौल ( प्रण )
Shyam Sundar Subramanian
✍️जिंदगी के सैलाब ✍️
'अशांत' शेखर
धड़कनों की सदा।
Taj Mohammad
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
Ravi Prakash
Loading...