Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#17 Trending Author

सुमन

***********सुमन (दोहा)***********
********************************

बाग में है सुमन खिले, रहते महक बिखेर।
भिन्न भिन्न खुश्बू मिले, संध्या और सवेर।।

रंग बिरंगे फूल हैं, उपवन का श्रृंगार।
देख कर सदा मन खिले,कुदरत का उपहार।।

पुष्पों से उद्यान भरे, छायी बहुत बहार।
डाली डाली खिल उठी,सजे हैं सभी द्वार।।

मन मोहक सा हो उठा, ताक फूल की बेल।
कली कली खिल सी गई , रंग बिरंगा खेल।।

मनसीरत मोहित हुआ , फूलों का दरबार।
बुझा उर भी जाग उठा , रंगत अपरंपार।।
***********************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

2 Likes · 156 Views
You may also like:
✍️✍️चुभन✍️✍️
"अशांत" शेखर
वात्सल्य का शजर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️"बा" ची व्यथा✍️।
"अशांत" शेखर
बेरोजगारी जवान के लिए।
Taj Mohammad
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
"अशांत" शेखर
बी एफ
Ashwani Kumar Jaiswal
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
आस्तीन के साँप
Dr Archana Gupta
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
आईना
Buddha Prakash
Security Guard
Buddha Prakash
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
क्या कुछ नहीं है मेरे पास
gurudeenverma198
विसाले यार
Taj Mohammad
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
"अशांत" शेखर
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
Loading...