Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 13, 2022 · 1 min read

सुबह

अरुणोदय जब दविज उठकर
चीं – चीं की आहट से उठाती
हम मानुज तब होते है जागृत
प्रभात का नजारा बड़ा निराला ।

सुबह भास्कर से पहले उठके
करने चले हमसब निज कार्य
दिनकर को अस्त होने से पूर्व
हमसब आ जाते अपना धाम ।

सुबह – सुबह प्रबुद्ध कर हमें
घूँटना निज अप्रतिष्ठा भी अंबु
जिससे मेरा चित्त रहता खुश
सुबह का नजरिया अद्वितीय ।

सुबह उठकर जो करता पढ़ाई
उनको मिलता अतिशय ज्ञान
सुबह पढ़ाई करना है अनुपेक्ष्य
भोर पढ़ने के हय कई प्रत्यागम ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

3 Likes · 204 Views
You may also like:
'धरती माँ'
Godambari Negi
पुराने खत
sangeeta beniwal
अगर नशा सिर्फ शराब में
Nitu Sah
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
कोई ठांव मुझको चाहिए
Saraswati Bajpai
कुछ बातें
Harshvardhan "आवारा"
"तुम हक़ीक़त हो ख़्वाब हो या लिखी हुई कोई ख़ुबसूरत...
Lohit Tamta
दोषस्य ज्ञानं निर्दोषं एव भवति
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr.Alpa Amin
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
बाल कविता —टेडी बेयर
लक्ष्मी सिंह
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
"हर घर तिरंगा"देश भक्ती गीत
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
परिंदे को गम सता रहा है।
Taj Mohammad
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
गुरु
Mamta Rani
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
** भावप्रतिभाव **
Dr.Alpa Amin
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
'अशांत' शेखर
Loading...