Oct 7, 2016 · 1 min read

सुबह को आता है जगा देना

हर सुबह को आता है नींद से जगा देना
सत्य को भी आता इंसान को सजा देना

जिन्दगी की बगियाँ को फूल से खिला देना
बीज चाह के बो सरगम नया सजा देना

प्रेमिका पुरानी तेरी रही युगों से मैं
तुम न अब किसी से फिर आँख को लड़ा देना

पास आ कभी हमसे दूर मत चले जाना साँस से बँधी हूँ जीवन दे मुझे जिला देना

हाथ जब पिता ने तुझको दिया हमेशा को
प्यार से मुझे रख कोई न फिर गिला देना

हो गया न जाने क्यों प्रेम रोग मुझको अब
आज फिर मुझे कोई रोग की दवा देना

झाड फूँक सब मैं करवा चुकी हूँ अब
फिर असर न करती कोई दवा दुआ देना

70 Likes · 204 Views
You may also like:
पिता
Buddha Prakash
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Santoshi devi
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार भरे गीत
Dr.sima
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
धागा भाव-स्वरूप, प्रीति शुभ रक्षाबंधन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
नई तकदीर
मनोज कर्ण
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
मां
Umender kumar
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
Nature's beauty
Aditya Prakash
Loading...