Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 29, 2022 · 2 min read

सुन ज़िन्दगी!

सुन ज़िन्दगी!
चौंक गयी ना, देखकर मुझे?
तूने क्या समझा था,
मिट गया मैं?
लुट गया मैं?
बहुत खुश थी तू
मेरे ख्वाबों के पर काटकर
दौड़ते पैरों में ज़ंजीर डालकर
लेकिन,
तू क्या जाने
मेरे हौसले की उड़ान को
हाँ! तड़पा मैं
क्यूंकि,
छीना था तूने
मेरे सपनों का संसार
परिश्रम से अर्जित किया हुआ अधिकार
और
उसी तड़पन ने दी मुझे
एक नई हिम्मत
उठ खड़े होने की ताक़त
आज फिर खड़ा हूँ तेरे सामने
सीना ताने, मस्तक उठाये….
परेशान था मैं
लेकिन,
दोषी किसे मानूँ
विधायिका को?न्यायपालिका को?
या,पल पल रंग बदलती
कार्यपालिका को?
वे तो सिर्फ मोहरे थे
तेरी शतरंजी बिसात के
आ गए सब अपनी दो कौड़ी की औकात पे
हम पचास थे
तेरे बहुत ख़ास थे
जब छीना था तूने,हमसे न्यायाधीश की कुर्सी
क़ानून की बातें करती थी ना
देख ले! भाई मसरूर आलम,चन्द्रशेखर गुप्त,
अनूप त्रिपाठी,अखिलेश मिश्र,
उमर जावेद,सुरेन्द्र राय,
अनिल दूबे,अरुण कुमार
और आलोक द्विवेदी को
जो पढ़ा रहे क़ानून का पाठ
तेरी क़ानून की देवी को
हवाला दिया था तूने भाग्य का
लेकिन सोचा कभी?
क्या होगा तेरे दुर्भाग्य का?
पूछ ले अपनी तक़दीर के बारे में
भाई अशोक राय से
अभी कितने दुर्दिन देखने हैं तुझे
हम पचासों की हाय से?
चाहती थी तू हमें दर-दर की ठोकरें खिलाना
खून के आँसू रुलाना
आँख उठाकर देख ले,कौन खड़ा है तेरे सामने
नहीं आया पहचान में ?
इस दाढ़ी और जटा के पीछे छुपे
चेहरे की आँखों में गौर से देख
नज़र आएंगे भाई राकेश मिश्र
जो अब हैं स्वामी आनन्द राकेश
मार दिया ठोकर तेरे ‘असीम’ वैभव को
और रमा लिया धूनी
अब क्यूँ होने लगीं तेरी आँखें सूनी?
किस किस का नाम गिनाऊँ
सबने तो बनाया है तुझे उपहास का पात्र
और तू समझती है
तेरी औकात बताने वाला मैं ही हूँ मात्र
अभी देखती जा…
आएगा वक़्त
जब तू होगी नतमस्तक मेरे सामने,
गिड़गिड़ायेगी
सर पटककर मेरे क़दमों पर
और,
मैं करूँगा अट्टहास
देखकर तेरा टूटता ग़ुरूर,
तेरी बेहिसाब बेबसी…
देखना
वक़्त आएगा
ज़रूर आएगा।
© शैलेन्द्र ‘असीम’

181 Views
You may also like:
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
'तुम्हारे बिना'
Rashmi Sanjay
वह माँ नही हो सकती
Anamika Singh
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
*"चित्रगुप्त की परेशानी"*
Shashi kala vyas
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
स्वागत बा श्री मान
आकाश महेशपुरी
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
*अग्रसेन भागवत के महान गायक आचार्य विष्णु दास शास्त्री :...
Ravi Prakash
✍️बगावत थी उसकी✍️
'अशांत' शेखर
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अमृत महोत्सव
वीर कुमार जैन 'अकेला'
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
अगनित उरग..
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मिसाल
Kanchan Khanna
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
ईद मनाते हैं।
Taj Mohammad
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
'अशांत' शेखर
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*एक शेर*
Ravi Prakash
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
✍️रिश्तेदार.. ✍️
Vaishnavi Gupta
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...