Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 7, 2017 · 1 min read

सुन सैनिक प्यारे

ऐ रणबांकुरे सपूत हमारे!
ऐ वीर बहादुर सैनिक प्यारे!
अब तुझको तेरा देश पुकारे, अब तुझको तेरा वतन पुकारे।
एक मांँ कह रही यह तुझसे बेटा।
अब नहीं है तुझ पर दूध का कर्ज।
तू निभा वफा से वतन का फर्ज।
हम भी हाथों में ले लेंगे बंदूक।
अगर करेगा तू हम से अर्ज।
ऐ वीर बहादुर बेटे प्यारे।
अब तुझको तेरा देश पुकारे, अब तुझको तेरा वतन पुकारे।
कर देंगे खट्टे दुश्मन के दांत।
न रहेंगे उसके मुंह में दांत न पेट में आंत।
उसको मुंह की खानी होगी।
युद्ध में पीठ उसे दिखानी होगी।
उसे नाक चने चबवाएंगे।
दिन में तारे दिखाएंगे।
दुश्मन को धूल चटानी है।
छठी के दूध की याद दिलानी है।
वह दुम को दबाकर भाग लेगा ।
अपने घर जाकर ही दम लेगा।
फिर कभी दगा की न सोचेगा।
पीछे से छुरा न घोंपेगा।
गद्दारी से अपनी आएगा बाज।
बेटा हमें है तेरे बाहुबल पर नाज।
तू दे दे हमें बस एक ही आवाज।
उसके दम पर दौड़े चले आएंगे।
मांँ, बहन, पत्नी, बेटी का रूप त्याग
देश के सच्चे सिपाही बन जाएंगे।
कंधे से कंधा मिलाएंगे।
तेरा पूरा साथ निभाएंगे।
दुश्मन के छक्के छुड़ाएंगे।
दूर – दूर तक तिरंगे का परचम लहराएंगे।
हम यह करके ही दिखलाएंगे।

—–रंजना माथुर दिनांक 07/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

248 Views
You may also like:
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
आस
लक्ष्मी सिंह
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरे पापा
Anamika Singh
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...