Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 6, 2017 · 2 min read

=सुन रहा है न तू=

‌ ===सुन रहा है न तू===
(एक असहाय वृद्धा माँ के दर्दनाक अंत की कहानी)

जिस दिन तेरा एहसास हुआ,
न पांव जमीं पर पड़ रहे थे मेरे।
नौ माहों तक हथेलियों पर,
रख रहे थे मुझको पापा तेरे।
तेरे स्वागत की तैयारी करते हम सांझ सवेरे।

फिर आया तू लाया खुशियाँ,
रोशन हो गयी हमारी दुनिया।
न याद था कोई आराम न कोई निंदिया,
तेरे लिए थे सब दिन सब रतिया।

तेरी इक आहट पर जागते,
छींक भी आ जाए तो पापा भागते।
तुरन्त डॉक्टर को ले आते,
जरा सा तुझे अस्वस्थ जो पाते।

वो तेरा पहला कदम बढ़ाना,
वो तेरा पहला बोल तुतलाना।
तेरी हर छवि को निहारना,
तुझे पोसना तुझे पालना।

तिल तिल तेरा यह बढ़ता तन-बदन,
इसी को अर्पित था हम मांँ – बाप का जीवन।
तू भी प्यार पाकर था बहुत मगन,
हर ख्वाहिश पूरी मन तेरा प्रसन्न।

बना युवक तू पूर्ण की देश की पढ़ाई,
भावी उन्नति हेतु विदेश जाने की बात आई।
मैं थी व्याकुल पापा थे बेचैन पल छिन,
लेकिन तुम तो गिन रहे थे जाने के दिन।

क्यों न गिनते तुम्हें दिख रही थी,
बेटा सामने अपनी तरक्की।
हम भी मन से दे रहे थे कोटि-कोटि आशीष,
खुश हम भी थे यह बात थी पक्की।

फिर वह दिन भी आ गया,
जब तुम उड़ गए अमरीका।
हमारा जीवन तो तुम्हारे जाते ही,
हो कर रह गया एकदम फीका।

पहले पहले फोन आते थे तुम्हारे,
शायद तुम्हें याद आते थे हमारे साये।
किन्तु बाद में शनैः शनैः बंद हो गये,
तुम से बात हो पाती थी गाहे-बगाहे।

तेरी याद करते हुए तेरे पापा,
चले गए तेरे वियोग के गम में।
मैं वृद्धा अकेली घबराती हूँ,
या तू ले जा बेटा या छोड़ दे वृद्धाश्रम में।

मेरी आवाज तो बेटा शायद,
तुझ तक पहुँच न पाई।
तेरा मुखड़ा देखने की लालसा लिए,
तेरे आने से पहले ही मुझे मौत आई।

न ही मैंने सद्गति ही पाई,
न हुआ मेरा अंतिम संस्कार।
तू जब भी घर पर आएगा,
मैं न मिलूंगी मिलेगा मेरा कंकाल।

मेरा है आशीष तुझे,
खूब कमाना तुम डॉलर।
इतना अमीर बनना तुम बेटा,
लगाना घर भर में रुपयों की झालर।

परन्तु बेटा अपनी संतान से,
हमारी यह कहानी सदा छिपाना।
वरना फिर से कहीं यह न शुरू हो,
क्योंकि इतिहास चाहता है अपने आप को दोहराना।

अपनों के बीच लेना बेटा अंतिम श्वास,
यही तेरी माँ की तमन्ना यही आखिरी आस।

—–रंजना माथुर दिनांक 10/07/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
©

347 Views
You may also like:
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
बहुमत
मनोज कर्ण
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
# पिता ...
Chinta netam " मन "
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की याद
Meenakshi Nagar
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पहचान...
मनोज कर्ण
Loading...