Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-29💐

सुनो!मुझ में हर चीज़ की कमी है।
क्यों, सिर्फ़ तुम्हारी कमी से।

-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम तो हो गई मुझसे दूर
तुम तो हो गई मुझसे दूर
Shakil Alam
मुस्कुराना चाहता हूं।
मुस्कुराना चाहता हूं।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दादी माँ
दादी माँ
Fuzail Sardhanvi
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Bhagwan sabki sunte hai...
Bhagwan sabki sunte hai...
Vandana maurya
💐अज्ञात के प्रति-40💐
💐अज्ञात के प्रति-40💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
Vishal babu (vishu)
पिता
पिता
Kavi Devendra Sharma
ऑनलाइन पढ़ाई
ऑनलाइन पढ़ाई
Rajni kapoor
कर्म में कौशल लाना होगा
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अधीर मन खड़ा हुआ  कक्ष,
अधीर मन खड़ा हुआ कक्ष,
Nanki Patre
लाखों सवाल करता वो मौन।
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
सच को सच
सच को सच
Dr fauzia Naseem shad
In love, its never too late, or is it?
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
■ बेमन की बात...
■ बेमन की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
ताप
ताप
नन्दलाल सुथार "राही"
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
Writing Challenge- जल (Water)
Writing Challenge- जल (Water)
Sahityapedia
बेटी-पिता का रिश्ता
बेटी-पिता का रिश्ता
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Sakshi Tripathi
ਨਾਨਕ  ਨਾਮ  ਜਹਾਜ  ਹੈ, ਸਬ  ਲਗਨੇ  ਹੈਂ  ਪਾਰ
ਨਾਨਕ ਨਾਮ ਜਹਾਜ ਹੈ, ਸਬ ਲਗਨੇ ਹੈਂ ਪਾਰ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन संवाद
जीवन संवाद
Shyam Sundar Subramanian
भैया दूज (कुछ दोहे)
भैया दूज (कुछ दोहे)
Ravi Prakash
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तब हर दिन है होली
तब हर दिन है होली
Satish Srijan
ऐसे क्यों मुझे तड़पाते हो
ऐसे क्यों मुझे तड़पाते हो
Ram Krishan Rastogi
दिन  तो  कभी  एक  से  नहीं  होते
दिन तो कभी एक से नहीं होते
shabina. Naaz
नाराज़ जनता
नाराज़ जनता
Shekhar Chandra Mitra
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
Loading...