Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-526💐

सुनो,इन पयामों के चिराग़ मयस्सर जलाए रखो,
ढह रहे दिल के मकाँ में बखूबी आए जाए रखो
ये वक़्त किसी का सगा नहीं हैं तिरा मिरा क्या है,
हाँ,जज़्बा ही बचता है बस जज़्बा,इसे बनाए रखो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”
वक़्त नहीं है।मेरे पास।

Language: Hindi
320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
Bhuneshwar Sinha Congress leader Chhattisgarh. bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bhuneshwar Sinha Congress leader Chhattisgarh. bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bramhastra sahityapedia
शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल , कनेर पुष्प व तुलसी पत्र क्यों नहीं चढ़ाए जाते है ?
शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल , कनेर पुष्प व तुलसी पत्र क्यों नहीं चढ़ाए जाते है ?
Subhash Singhai
■ टिप्पणी / शब्द संकेत
■ टिप्पणी / शब्द संकेत
*Author प्रणय प्रभात*
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
सूर्यकांत द्विवेदी
🌹ओ साहिब जी,तुम मेरे दिल में जँचे हो🌹
🌹ओ साहिब जी,तुम मेरे दिल में जँचे हो🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां की प्रतिष्ठा
मां की प्रतिष्ठा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
कवि दीपक बवेजा
पहले की भारतीय सेना
पहले की भारतीय सेना
Satish Srijan
तितली थी मैं
तितली थी मैं
Saraswati Bajpai
माँ दुर्गा।
माँ दुर्गा।
Anil Mishra Prahari
गुमान
गुमान
AJAY AMITABH SUMAN
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
Ravi Prakash
गुलदस्ता नहीं
गुलदस्ता नहीं
Mahendra Narayan
हो बेखबर अंजान तो अंजान ही रहो।
हो बेखबर अंजान तो अंजान ही रहो।
Taj Mohammad
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Sahityapedia
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant Kumar Patel
✍️प्रकृति के नियम✍️
✍️प्रकृति के नियम✍️
'अशांत' शेखर
कुछ नहीं इंसान को
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
सुन मेरे बच्चे !............
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
तेरी परछाई
तेरी परछाई
Swami Ganganiya
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
Loading...