Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

सुधर जाओ, द्रोणाचार्य

कहीं ऐसा न हो कि ख़ामख़ाह
यहां एक और इंकलाब आए!
अब हमारे गुस्से की लपेट में
यह ज़ुल्मत का सम्राज्य आए!
आख़िर कितना बर्दाश्त करेगा
कोई एकलव्य ऐसी हकमारी!
कह दो जाकर द्रोणाचार्य से
अपनी हरकतों से बाज आए!
#आदिवासी #SC #OBC #आरक्षण
#शूद्र #स्त्री #जातिवाद #इंटरव्यू
#परीक्षा #नंबर #शूद्र #ST #फेल

Language: Hindi
105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता का मर्तबा।
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
हम एक है
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गुंडागर्दी
गुंडागर्दी
Shekhar Chandra Mitra
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Siksha ke vikas ke satat prayash me khud ka yogdan de ,
Sakshi Tripathi
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
💐प्रेम कौतुक-316💐
💐प्रेम कौतुक-316💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन मेरे तू सावन सा बन....
मन मेरे तू सावन सा बन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
हया आँख की
हया आँख की
Dr. Sunita Singh
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
तरुण सिंह पवार
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
■ देश भर के जनाक्रोश को शब्द देने का प्रयास।
*Author प्रणय प्रभात*
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
गोबरैला
गोबरैला
Satish Srijan
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
भूल जाओ इस चमन में...
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
मित्रता का मोल
मित्रता का मोल
DrLakshman Jha Parimal
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
बाल कहानी- चतुर और स्वार्थी लोमड़ी
बाल कहानी- चतुर और स्वार्थी लोमड़ी
SHAMA PARVEEN
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
Ms.Ankit Halke jha
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
मैथिली मुक्तक / मैथिली शायरी (Maithili Muktak / Maithili Shayari)
मैथिली मुक्तक / मैथिली शायरी (Maithili Muktak / Maithili Shayari)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
वृक्ष बोल उठे..!
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
Ravi Prakash
Loading...