Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

जन्मदिन की शुभकामना

सुख शांति मिले
मुख कांति मिले,
आरोग्य कीर्ति
धन मान मिले।
सद्कर्मों में जीवन बीते,
सन्तों का निश दिन ज्ञान मिले।
तेरा जन्म दिवस खुशियां लाये,
आगे का पथ हो सुखदाई।
गुर कृपा बनी रहे तुझ पर,
वर हाथ रखें नित रघुराई ।
न रहे विरोधाभास कोई,
परिवार के मध्य रहो प्यारी ।
इस अवसर पर आशीष मेरा,
हो जन्मदिवस मंगलकारी

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
गौरैया बोली मुझे बचाओ
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"वो गुजरा जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्कार जगाएँ
संस्कार जगाएँ
Anamika Singh
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
✍️दर्द दिल में....... ✍️
✍️दर्द दिल में....... ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
✍️तजुर्बों से अधूरे रह जाते
✍️तजुर्बों से अधूरे रह जाते
'अशांत' शेखर
सुरसरि-सा निर्मल बहे, कर ले मन में गेह।
सुरसरि-सा निर्मल बहे, कर ले मन में गेह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
देवदासी प्रथा का अंत कब होगा?
देवदासी प्रथा का अंत कब होगा?
Shekhar Chandra Mitra
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
दो किनारे हैं दरिया के
दो किनारे हैं दरिया के
VINOD KUMAR CHAUHAN
कभी चाँद बन के आजा
कभी चाँद बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ सरस्वती वंदना (छंद शैली)
■ सरस्वती वंदना (छंद शैली)
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
हर घर में।
हर घर में।
Taj Mohammad
*मतलब डील है (गीतिका)*
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,
ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,
कवि दीपक बवेजा
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
💐प्रेम कौतुक-283💐
💐प्रेम कौतुक-283💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
गांव - माँ का मंदिर
गांव - माँ का मंदिर
नवीन जोशी 'नवल'
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
“ हम महान बनबाक लालसा मे सब सँ दूर भेल जा रहल छी ”
“ हम महान बनबाक लालसा मे सब सँ दूर भेल जा रहल छी ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...