Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सुख को देखे हुए इक जमाना हुआ

अच्छे दिन का शुरू जब से गाना हुआ,
तब से महंगा बहुत आबोदाना हुआ!
मेरी बस्ती का हर शख्स कहता है अब,
सुख को देखे हुए इक जमाना हुआ!!

दाल सत्तर से सीधे हुई डेढ़ सौ,
और मसाले सभी मुंह चिड़ाने लगे!
मिर्च, हल्दी, धनी, जीरा महंगा हुआ,
दिन में तारे नजर सबको आने लगे!!

हर कोई है परेशां यही सोचकर!
अब तो मुश्किल बहुत, घर चलाना हुआ!!

अब नमक हो गया बीस रुपया किलो,
तेल सरसों का भी सौ रुपये हो रहा!
दूध के दाम अब दोगुना हो गए,
बढ़ती महंगाई में आमजन रो रहा!!

फीस बच्चों की भी बढ़ गई इस कदर!
बड़ा महंगा उन्हें अब पढ़ाना हुआ!!

अच्छे दिन का शुरू जब से गाना हुआ,
तब से महंगा बहुत आबोदाना हुआ!
मेरी बस्ती का हर शख्स कहता है अब,
सुख को देखे हुए इक जमाना हुआ!!
– विपिन शर्मा
रामपुर उत्तर प्रदेश

2 Likes · 2 Comments · 168 Views
You may also like:
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
नहीं छिपती
shabina. Naaz
मित्र
लक्ष्मी सिंह
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
"अशांत" शेखर
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
✍️कोरोना✍️
"अशांत" शेखर
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कुछ बातें
Harshvardhan "आवारा"
जितना सताना हो,सता लो हमे तुम
Ram Krishan Rastogi
बेदर्द -------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
✍️बेसब्र मिज़ाज✍️
"अशांत" शेखर
✍️मुतअस्सिर✍️
"अशांत" शेखर
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
My dear Mother.
Taj Mohammad
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
"अशांत" शेखर
अम्मा जी
Rashmi Sanjay
जीना अब बे मतलब सा लग रहा है।
Taj Mohammad
काश
Harshvardhan "आवारा"
उसूल
Ray's Gupta
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...