Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Dec 2022 · 4 min read

सुई-धागा को बनाया उदरपोषण का जरिया

‘जीवन में कभी उदास मत होना
कभी किसी बात से निराश मत होना
जिंदगी एक संघर्ष है, चलता रहेगा
कभी अपने जीने का अंदाज मत खोना
जो हुआ, उसका गम न कर
रो-रो कर आंखें नम न कर
संघर्ष तो जिंदगी का एक अहम हिस्सा है
बिना जिसके जीवन, एक नीरस किस्सा है.’
ऐसे संदेश से ओतप्रोत तमाम प्रेरक कविताएं, बोध कथाएं और प्रेरक कथाएं लोग सुनते रहते हैं लेकिन यह सब जान-समझकर भी अच्छे से अच्छा पढ़ा-लिखा व्यक्ति भी कई बार जीवन-संघर्ष से घबराकर अपना जीवन तक समाप्त कर बैठता है. बॉलीवुड के उभरते सितारे सुशांत सिंह राजपूत और महाराष्ट्र के प्रख्यात समाजसेवी स्व. बाबा आमटे की पोती शीतल आमटे की आत्महत्या ताजा उदाहरण हैं. अभिनेता सुशांत राजपूत ने अपनी फिल्म ‘छिछोरे’ में आत्महत्या न करने का संदेश दिया था. समाजसेविका शीतल आमटे भी विदर्भ के निराश किसानों को सकारात्मकता का संदेश देती थीं. संयुक्त राष्ट्र ने उन्हें विश्व नवाचार दूत नियुक्त किया था. लेकिन इन्होंने भी आखिरकार जीवन की प्रतिकूलताओं के आगे घुटने टेक दिए लेकिन समाज में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो तमाम आर्थिक-पारिवारिक प्रतिकूलताओं के बावजूद अपनी जिजीविषा कायम रखते हैं. सच पूछा जाए तो समाज के सच्चे आदर्श तो यही होते हैं. प्रतिकूलता में भी वे अपनी राह निकाल लेते हैं. ऐसी ही जिजीविषा-जीवटता के धनी और संघर्ष को जीवन का अहम हिस्सा मानने वाले 64 वर्षीय मिलिंद गणवीर को हर रोज आप नागपुर शहर के पंचशील चौक स्थित महावीर मेवावाला दुकान के सामने आदिवासी गोवारी शहीद उड़ानपुल के नीचे बैठा देख सकते हैं. उन्होंने गत 50 वर्षों से सुई-धागा को अपने उदरनिर्वाह का जरिया बना रखा है. पूंजी के अभाव में उड़ानपुल के नीचे स्थित रोड डिवाइडर को ही अपना वर्कशॉप बना लिया है. यूं तो रोड किनारे और उड़ान पुल के नीचे और भी लोग मिल जाएंगे, पर उम्र के चौथे पड़ाव में भी तमाम दु:खों को अपने दिल में समेटे इस उम्रदराज व्यक्ति की कहानी अत्यंत मर्मस्पर्शी है. कुंजीलाल पेठ, रामेश्वरी रोड निवासी मिलिंद के पिताजी रेलवे में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी थे. पारिवारिक असंगतियों के चलते वे मात्र चौथी कक्षा तक ही पढ़ सके. जब उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी तो अपने मामाजी के साथ काम में जुट गए. उनके मामाजी भी पंचशील चौक पर रोड किनारे बैठकर कपड़ों पर रफूगरी का काम करते थे. बचपन से ही अपने मामाजी के साथ काम करते हुए ही इस हुनर को उन्होंने सीखा था. आज से 25 साल पहले उनके मामाजी किसी काम से शहर के बाहर गए तो फिर वापस ही नहीं आए. आज तक उनका पता नहीं चला कि वे दुनिया में हैं या नहीं. तब से आज तक उन्हें खोने का दुख है. उनसे ही प्राप्त हुनर रफूगरी का काम उनका और उनके परिवार के जीवन निर्वाह का जरिया बन गया. किसी समय पत्नी, दो बेटा और एक बेटी का भरापूरा परिवार था. अब मात्र दो ही सदस्य घर में हैं. बेटी की तो शादी हो चुकी है जबकि एक बेटा और पत्नी इस दुनिया में नहीं रहे. उन्होंने बताया कि कई बार जीवन से निराशा भी होती है लेकिन फिर लगता है जीवन-मरण तो विधि का विधान है. जब तक जान है तो जहान है.
कोरोना ने भयभीत जरूर किया, पर नसीहत भी मिली
जब वे यह सब बात कर रहे थे, तब सचमुच में उनकी आवाज में एक अटूट जिजीविषा साफ झलक रही थी. कोविड महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन को उन्होंने गरीबों की कमर तोड़ देने वाला बताया. पिछले एक साल से उनकी आय चौथाई हो गई है. जैसे-तैसे गुजारा ही हो रहा है. इस बीच कंट्रोल का राशन उनके लिए काफी सहारा साबित हो रहा है. यह पूछने पर कि कभी कुछ दूसरा काम करने को सोचा, उन्होंने बताया कि जिस काम को वर्षों से कर रहे हों, उसे कैसे छोड़ सकते हैं. यह हुनर तो उनके दिलदिमाग रचबस गया है. उन्होंने मुझसे ही सवाल पूछ लिया कि जो काम आप कर रहे हैं, उसे आप छोड़ सकते हैं. बचपन से ही इस काम से जुड़ जाने से वे दूसरा हुनर भी नहीं सीख सके इसलिए वे अब इसी को अपना जीवन यापन का जरिया बना चुके हैं. शहर में चहल-पहल के बीच ग्राहकों का काम करते हुए उन सबसे मैं आत्मीय भाव से जुड़ गया हूं. पेशा तो क्या यह जगह छोड़ने की भी इच्छा नहीं होती. हुनर, पेशा, ग्राहकों और जगह से एक खास रिश्ता जुड़ गया है. यह मेरा सिर्फ उदरपोषण का ही जरिया नहीं बल्कि जीवन-संगीत बन चुका है. उन्होंने बताया कि उन्होंने कई समस्याओं को उन्होंने ङोला है लेकिन कोरोना ने तो भयभीत ही कर दिया लेकिन इसने यह नसीहत भी दी कि आड़े वक्त के लिए हमें बचत करके भी रखना चाहिए और सरकार, समाज को भी गरीब-जरूरतमंदों के लिए सामने आना चाहिए.
चौथी कक्षा पास उम्रदराज बुजुर्ग की जुबान से जीवन की इतनी गहरी यथार्थ व्याख्या सुनकर मैं भी स्तब्ध रह गया. तब जाना औपचारिक शिक्षा से कहीं अधिक अनुभव की शिक्षा सच के कहीं अधिक करीब होती है.
इनका जीवन संघर्ष यही साबित करता है कि पल-प्रतिपल हमें जीवन का आनंद लेते चलना है. हम अपने अनेक ऐसे खुश चेहरों को देख सकते हैं जिनकी खुशी के पीछे कोई वजह नहीं दिखती. वे बस खुश चेहरे हैं. चाहे वे दांत फाड़कर हंसने वाले दोस्त हों, हमारे कोई रिश्तेदार या फिर किसी बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और कोई पब्लिक प्लेस में हंसते-खिलखिलाते बच्चे, किशोर, नौजवान, बुजुर्ग या महिलाएं.
कोई बेबाकी से यह नहीं बता सकता कि किसी के खुश रहने के पीछे क्या वजह हो सकती है या कोई क्यों खुश रहे? अगर हमने दुनिया में जन्म लिया तो संघर्ष तय है, कभी आराम है, कभी परेशानी है, कभी असफलता है तो कभी सफलता. हर परिस्थितियों और विभिन्न लोगों से कुछ सीख लेकर आगे बढ़ने का नाम ही जीवन है.
किसी शायर ने क्या खूब कहा है-
‘‘सिखा न सकीं जो उम्र भर
तमाम किताबें मुझे
फिर करीब से कुछ चेहरे पढ़े
और न जाने कितने सबक
सीख लिए..’’

Language: Hindi
Tag: Story
2 Likes · 3 Comments · 68 Views
You may also like:
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
gurudeenverma198
💐अज्ञात के प्रति-7💐
💐अज्ञात के प्रति-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्किया होली
इश्किया होली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नाम में क्या रखा है
नाम में क्या रखा है
सूर्यकांत द्विवेदी
हुनर पे शायरी
हुनर पे शायरी
Vijay kumar Pandey
✍️बुराई करते है ✍️
✍️बुराई करते है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ఉగాది
ఉగాది
विजय कुमार 'विजय'
आया होली का त्यौहार
आया होली का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
✍️ताकत और डर✍️
✍️ताकत और डर✍️
'अशांत' शेखर
पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नहीं
पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नहीं
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
पेंशन दे दो,
पेंशन दे दो,
मानक लाल"मनु"
अजब-गजब इन्सान...
अजब-गजब इन्सान...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Destiny
Destiny
Shyam Sundar Subramanian
■ कटाक्ष / आज की खोज.....
■ कटाक्ष / आज की खोज.....
*Author प्रणय प्रभात*
अहद
अहद
Pratibha Kumari
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
::: प्यासी निगाहें :::
::: प्यासी निगाहें :::
MSW Sunil SainiCENA
महाड़ सत्याग्रह
महाड़ सत्याग्रह
Shekhar Chandra Mitra
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपना ख़याल तुम रखना
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
यकीन वो एहसास है
यकीन वो एहसास है
Dr fauzia Naseem shad
! ! बेटी की विदाई ! !
! ! बेटी की विदाई ! !
Surya Barman
प्रेम की राख
प्रेम की राख
Buddha Prakash
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ...
कवि दीपक बवेजा
*चुनौती के बिना जीवन-समर बेकार होता है (मुक्तक)*
*चुनौती के बिना जीवन-समर बेकार होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
Prabhudayal Raniwal
जिनके पास अखबार नहीं होते
जिनके पास अखबार नहीं होते
Surinder blackpen
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी...
Dr Archana Gupta
हंसना और रोना।
हंसना और रोना।
Taj Mohammad
Loading...