Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2021 · 1 min read

सीधी सादी राह न चलते खुद को हम उलझाते हैं।

कसम उठाते हैं सुबह को शाम को जाम उठाते हैं।
शौक शाम के छूट न पाते सुबह को हम बहलाते हैं।

फ़ौज़ बहानों की लो हमसे क्यों पीते क्यों मरते हैं।
सीधी सादी राह न चलते खुद को हम उलझाते हैं।

बहुत सोचता हूँ मैं इसपर हैराँ होता रहता हूँ।
किसे याद कर तन्हाई में अक्सर वो मुस्काते हैं।

आता है सैलाब तो अपने संग सब कुछ ले जाता है।
अश्कों के सैलाब अदद इक गम क्यूं न धो पाते हैं।

नादाँ हैं वे नहीं जानते दिल को मय तर करती है।
बादाकश वे कहते मुझको दीवाना बतलाते हैं।

दुश्वारी की रेगिस्तानी दुनियां में रहते हैं पर।
जब भी मौका पा जाएं खुशियों की फसल उगाते हैं।

अरमानों की एक ख़ासियत “नज़र” बहुत ही प्यारी है।
पूरा करते उम्र बीतती पर बाकी रह जाते हैं।

Copyright. kumarkalhans.27,05,16

11 Likes · 2 Comments · 225 Views
You may also like:
मां
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
✍️डर काहे का..!✍️
'अशांत' शेखर
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
'अशांत' शेखर
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
धुँध
Rekha Drolia
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
✍️तंगदिली✍️
'अशांत' शेखर
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
💐अशान्ति: अवश्यमेव नष्ट: भविष्यति,कदा??💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां।
Taj Mohammad
हर हाल में ख़ुदी को
Dr fauzia Naseem shad
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
मुख पर तेज़ आँखों में ज्वाला
Rekha Drolia
✍️बर्दाश्त की हद✍️
'अशांत' शेखर
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️कथासत्य✍️
'अशांत' शेखर
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
Loading...