Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2020 · 1 min read

सीता देवी

लंका विजय के बाद
राम तुम्हे लेने नहीं आये,
तुम मौन क्यो थी?
अयोध्या की
जनता तो
साधारण थी
उसके प्रश्नों
का जवाब
उसी समय
क्यों नहीं
दे दिया,
गृह त्याग
क्यों स्वीकारा
और अन्त
का निर्णय
बिना पति परार्मश
के ले लिया,
ऐसी लीला की
जो आज भी
समझ से परे है,
सच बताना
तुम भी
किसी पुरूष
की गढी
कहानी हो,
या मात्र
मन्दिर की
देवी हो|

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Likes · 202 Views
You may also like:
सच्चे दोस्त की ज़रूरत
सच्चे दोस्त की ज़रूरत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूख दौलत की जिसे,  रब उससे
भूख दौलत की जिसे, रब उससे
Anis Shah
इतनें रंगो के लोग हो गये के
इतनें रंगो के लोग हो गये के
Sonu sugandh
बच्चों की दिपावली
बच्चों की दिपावली
Buddha Prakash
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Dr. Girish Chandra Agarwal
■ सीधी बात, नो बकवास...
■ सीधी बात, नो बकवास...
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी तुझसे
ज़िंदगी तुझसे
Dr fauzia Naseem shad
रक्तरंजन से रणभूमि नहीं, मनभूमि यहां थर्राती है, विषाक्त शब्दों के तीरों से, जब आत्मा छलनी की जाती है।
रक्तरंजन से रणभूमि नहीं, मनभूमि यहां थर्राती है, विषाक्त शब्दों...
Manisha Manjari
आदत में ही खामी है,
आदत में ही खामी है,
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
*नजारा फिर न आएगा (मुक्तक)*
*नजारा फिर न आएगा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
# शुभ - संध्या .......
# शुभ - संध्या .......
Chinta netam " मन "
वक्त
वक्त
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
🙏माँ कूष्मांडा🙏
🙏माँ कूष्मांडा🙏
पंकज कुमार कर्ण
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
भारतीय संस्कृति और उसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
जी उठती हूं...तड़प उठती हूं...
जी उठती हूं...तड़प उठती हूं...
Seema 'Tu hai na'
अब तक मैं
अब तक मैं
gurudeenverma198
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रावण पुतला दहन और वह शिशु
रावण पुतला दहन और वह शिशु
राकेश कुमार राठौर
माँ
माँ
विशाल शुक्ल
नींद में गहरी सोए हैं
नींद में गहरी सोए हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम करना इबादत है
प्रेम करना इबादत है
Dr. Sunita Singh
अब हो ना हो
अब हो ना हो
Sidhant Sharma
संगीत
संगीत
Surjeet Kumar
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
💐कुछ तराने नए सुनाना कभी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां
मां
Sushil chauhan
आज का भारत
आज का भारत
Shekhar Chandra Mitra
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...