Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 28, 2022 · 2 min read

सीख

शीर्षक –सीख
“कौन करेगा इनके बिस्तर साफ?जब देखो तब गंदा करती रहतीं हैं।”देवरानी ने नाक से साड़ी का पल्लू दबाया
“बड़ी के ठाठ हैं।कुछ करना न पड़े इसलिए अलग हो गयीं। एक नम्बर की मतलबी औरत।”ननद ने तड़का लगाया।
अपने कमरे की सीढ़ियाँ चढ़ते रीता के कान में शब्द पड़े ।क्रोध तो आया कि पलट कर जबाव दे दे कि वह हुई अलग या साल में आठ महीने मायके रहने वाली ननद को अपना साम्राज्य छिनता नज़र आया।
अनसुनी कर वह जैसे ही आगे बढ़ी ,”करें
क्या इनका अब?मेरे वश का नहीं है दीदी।”
रीता उल्टे पाँव लौट सास के कमरे की ओर बढ़ी।दरवाजे पर पहुँचते ही बदबू के झौंके ने स्वागत किया।एक पल को जी मिचलाया और वह वापिस मुड़ी ही थी कि कुछ शब्द कानों में सरगोशी कर गये।
“बेटा, हर लड़की को ससुराल में निभाना पड़ता है। और फिर इसमें गलत भी क्या?बुढ़ापे में शरीर अशक्त हो जाता है तो घर के सदस्य ही देखभाल करते हैं।इतने बड़े परिवार का यही तो मजा है। एक दूसरे की मदद हो जाती है।”
“पर मम्मी ,अम्माँ ने सारी जिंदगी आपको कोसने,रंग रूप पर ताना मारने और नौकरों से भी गया बीता सुलूक किया।फिर भी आप ..।”
“पगली, वो उनका स्वभाव है।नहीं छोड़ा तो मैं अपना कैसे छोड़ दूँ?कोई न देखे, न सराहे तो क्या ?वो ऊपर वाला तो है।”
रीता ने अपने को सँभाला। नाक को साड़ी के पल्लू से ढाँक सास की ओर बढ़ गयी।उन्हें जैसे तैसे उठा कर साफ किया ,कपड़े बदले।
माँ की सीख ने आज उसे संतुष्टि का अहसास करा दिया था।आखिर माँ तो माँ ही होती है न!

मनोरमा जैन
मेहगाँव,जिला भिंड
मध्य प्रदेश

2 Likes · 1 Comment · 81 Views
You may also like:
✍️बुलडोझर✍️
"अशांत" शेखर
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
✍️लोग जमसे गये है।✍️
"अशांत" शेखर
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
मित्र
Vijaykumar Gundal
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फादर्स डे पर विशेष पिरामिड कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
✍️थोड़ा थक गया हूँ...✍️
"अशांत" शेखर
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मन की मुराद
मनोज कर्ण
Loading...