Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 1, 2022 · 1 min read

सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar

आइने में हम अपना ग़म देखते हैं
उन्हें आज कल बहुत कम देखते हैं

हाथ रखते हैं गैरों के कंधे पर जब वो
हाथ को सर पे रख के सितम देखते हैं

हर महीने मनाते हैं वो बर्थ डे और
अपनी शादी में भी हम मातम देखते हैं

मजबूरी को दे कर मोहब्बत का नाम
अपनी दुल्हन में अपना सनम देखते हैं

हिजरत ने मारा किस क़दर ये ना पूछो
को को कोला में भी अब तो रम देखते हैं

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

145 Views
You may also like:
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बदरिया
Dhirendra Panchal
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math
चाहत
Lohit Tamta
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख़ुशी
Alok Saxena
✍️पिता:एक किरण✍️
"अशांत" शेखर
समय ।
Kanchan sarda Malu
धोखा
Anamika Singh
सलाम
Shriyansh Gupta
✍️मैं आज़ाद हूँ (??)✍️
"अशांत" शेखर
" हसीन जुल्फें "
DESH RAJ
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
✍️खुशी✍️
"अशांत" शेखर
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
Loading...