Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 6, 2017 · 1 min read

सिंदूर

सुन,
नहीं चाहती कभी निकलना जन्म जन्मान्तर तक मैं प्रिय।
बस डूबी रहना चाहती हूँ ,हैं जो सिन्दूरी से अहसास हिय।
अद्भुत सा स्पंदन और सिहरन सी तन मन में है फैलती।
यादों में तेरी मैं जागूं, रहूं बावरी सी नित टहलती।
सुन,
होने का ख्याल तेरे,हया भर देता रोम रोम में
देखूं स्वप्न जागी अंखियों से नीलम अंबर व्योम में।
सिंदूरी श्रृंगार यह नारीत्व का निर्मलता का आभास है।
किसी अनजान को अपना बना लेने का सुखद एहसास है।
अहा ! कितना प्यारा है ,भरता जो पाहन में भी प्राण
मेरे चेहरे पर निखार देता संतुष्टि के सौन्दर्य का निर्माण।
सुन,
डुबो देता है प्रेम सुख के अथाह गहरे सागर में
होता है प्रतीत मानों मधु भरा है स्नेह की गागर में।
खुशियों का ये अंदाज करता हृदय को ओत प्रोत है
जी रही हूं यादों में तेरी,अब यादें जीवन स्त्रोत हैं।
भर आता है नीलम जब कभी भी हिया मेरा
रोकर गुबार निकाल ती रख चित्र करीब पिया तेरा।

नीलम शर्मा

206 Views
You may also like:
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
रफ्तार
Anamika Singh
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
बाबू जी
Anoop Sonsi
पिता
Shankar J aanjna
Loading...