Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

सिंदूर की एक चुटकी

सिंदूर की एक चुटकी ने,
रंग दिया मुझे,
सिर्फ तन ही नहीं
मन भी रंग दिया,
बांध कर सात वचनो में
मुझे बाँध दिया सम्पूर्ण,
नख से लेकर शिखर तक
पहना दी गई है बेड़िया
शृंगार रूपी आभूषणों की
सुसज्जित कर तन को,
कोरा कर दिया गया मेरा मन
फिर की गई एक नाकाम सी कोशिश
उन्मुक्त विचारो को संकुचित करने की
आकाश छूने वाले मन रूपी घोड़े को,
परम्पराओ के अस्तबल में रोकने की
कशमकश में है मन
अब उड़ेगा या रहेगा बंद पिंजरे में,
मिलेगा मन को मन का साथी
तोता मैना बनकर छुएंगे गगन
या नोंच लेगा एक मन
दूजे मन के पंख
रह बिन आत्मा का शरीर बनकर
लाल रंग की लालिमा में
हृदय के लहू को छिपाये
सौंदर्य, सौम्यता और संस्कारो का पर्याय बनकर !!
|
डी के निवातिया

43 Views

Books from डी. के. निवातिया

You may also like:
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि अनुभवों
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि...
Aarti Ayachit
सीखने की भूख (Hunger of Learn)
सीखने की भूख (Hunger of Learn)
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
"ये कैसा दस्तूर?"
Dr. Kishan tandon kranti
//स्वागत है:२०२२//
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
अपूर्ण प्रश्न
अपूर्ण प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
प्रिय आदर्श शिक्षक
प्रिय आदर्श शिक्षक
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
■ उत्सवी सप्ताह....
■ उत्सवी सप्ताह....
*Author प्रणय प्रभात*
अघोषित आपातकाल में
अघोषित आपातकाल में
Shekhar Chandra Mitra
नववर्ष 2023
नववर्ष 2023
Vindhya Prakash Mishra
रोना
रोना
Dr.S.P. Gautam
महाकालेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन
महाकालेश्वर महादेव मंदिर उज्जैन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Writing Challenge- नृत्य (Dance)
Writing Challenge- नृत्य (Dance)
Sahityapedia
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
सोते में भी मुस्कुरा देते है हम
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
!!महात्मा!!
!!महात्मा!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
इतनें रंगो के लोग हो गये के
इतनें रंगो के लोग हो गये के
Sonu sugandh
💐प्रेम कौतुक-212💐
💐प्रेम कौतुक-212💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
✍️सुलगता जलजला
✍️सुलगता जलजला
'अशांत' शेखर
Desires are not made to be forgotten,
Desires are not made to be forgotten,
Sakshi Tripathi
वक़्त के साथ वो
वक़्त के साथ वो
Dr fauzia Naseem shad
एक आश विश्वास
एक आश विश्वास
Satish Srijan
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
Dr Archana Gupta
कैसे प्रेम इज़हार करूं
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
Rajesh vyas
*26 फरवरी 1943 का वैवाहिक निमंत्रण-पत्र: कन्या पक्ष :चंदौसी/
*26 फरवरी 1943 का वैवाहिक निमंत्रण-पत्र: कन्या पक्ष :चंदौसी/
Ravi Prakash
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
Shivkumar Bilagrami
रक्तरंजन से रणभूमि नहीं, मनभूमि यहां थर्राती है, विषाक्त शब्दों के तीरों से, जब आत्मा छलनी की जाती है।
रक्तरंजन से रणभूमि नहीं, मनभूमि यहां थर्राती है, विषाक्त शब्दों...
Manisha Manjari
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta,Alwar
न जाने तुम कहां चले गए
न जाने तुम कहां चले गए
Ram Krishan Rastogi
Loading...