Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

साहिलों ने हमें सूखी हुई………

साहिलों ने हमें सूखी हुई नदी समझा;
हमको हर दौर ने गुजरी हुई सदी समझा।

बोझ एहसास का जब हमसे उठाते न बना;
बात इतनी थी ज़माने ने त्रासदी समझा।

फिर से वैदेही के विश्वास को वनवास मिला;
फिर प्रशासन के दु:शासन ने द्रौपदी समझा।

ग़म की मय ढलती रही उम्र के पैमाने में;
गोया किस किस की कहें सबने बेखुदी समझा।

यूँ तो हर चेहरे थे चस्पां थे इश्तिहार बहुत;
बात मुद्दे की जो समझा तो “आरसी” समझा।

-आर.सी. शर्मा “आरसी”

2 Comments · 166 Views
You may also like:
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
महँगाई
आकाश महेशपुरी
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
बाबू जी
Anoop Sonsi
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
कशमकश
Anamika Singh
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
Loading...