Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

साहित्य – संसार

मेरा साहित्य – संसार
तुम्हारे साहित्य – संसार जैसा नहीं है

तुम्हारे साहित्य – संसार में
शब्द हैं
भाव हैं
कविता हैं
कहानियां हैं
किरदार हैं
कैमरा है
दर्शक हैं

लेकिन….
मेरे साहित्य – संसार में
न तो शब्द हैं
न भाव हैं
न कविता है
न कहानियां हैं
न किरदार हैं
न कैमरा है
न दर्शक हैं

मेरे साहित्य – संसार में ….
सिर्फ़ तुम हो
तुम से मेरा साहित्य …
तुम से मेरा संसार…

शिवकुमार बिलगरामी

Language: Hindi
1 Like · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
वीर हनुमान
वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
"सृष्टि निहित माँ शब्द में,
*Author प्रणय प्रभात*
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
विनोद सिल्ला
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
Shakil Alam
"तलाश उसकी रखो"
Dr. Kishan tandon kranti
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
shabina. Naaz
मारे जाओगे
मारे जाओगे
Shekhar Chandra Mitra
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
कवि दीपक बवेजा
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
Vishal babu (vishu)
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
Rashmi Sanjay
पूरी निष्ठा से सदा,
पूरी निष्ठा से सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है "रत्न"
गुप्तरत्न
हे कृतघ्न मानव!
हे कृतघ्न मानव!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
💐प्रेम कौतुक-208💐
💐प्रेम कौतुक-208💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कवितायें सब कुछ कहती हैं
कवितायें सब कुछ कहती हैं
Satish Srijan
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
Loading...