Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 7, 2022 · 1 min read

“साहित्यकार भी गुमनाम होता है”

“साहित्यकार भी गुमनाम होता है”
!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

ज्यों मैंने आवाज़ उठाई ,
‘पर’ ही मेरा कतर दिया ।
अपनी लाज बचाना चाहा,
झट से लज्जित कर दिया।

अरे , न्याय ही तो माॅंगा था ,
घोर अन्याय क्यों कर दिया ?
हमारे कलम की ताक़त को ,
रोकने का दुस्साहस जो किया।

अभिव्यक्ति कैसे रोकोगे ?
कभी पकड़ नहीं पाओगे ।
तुम एक अल्फ़ाज़ रोकोगे ,
सैकड़ों अल्फ़ाज़ निकलेंगे।

मेरे शब्द बड़े ही नाज़ुक हैं,
पर यही तो मेरी ताकत है।
फूल सा कोमल न समझो,
ये तलवार से भी घातक हैं।

जब ये सचमुच में बोलेंगे ,
तेरे रोम रोम कंपित होंगे ।
सबके ही न्याय के वास्ते ,
भले खुद हम लज्जित होंगे।

फ़क़त झूठ के पुलिंदे से ,
कितना तुम बढ़ पाओगे ।
ये ख़िज़ां का वक्त है तेरा ,
तुम खुद से मिट जाओगे ।

साहित्य के मूल्य को समझो ,
वरना संभल कभी न सकोगे।
अपने निजी स्वार्थ के चलते ,
साहित्य को गर्त में डुबो दोगे।

इन्हीं सब कारनामों के चलते ,
कभी साहित्य बदनाम होता है।
तेरे जैसे निकृष्ट सोच के चलते ,
साहित्यकार भी गुमनाम होता है।

( स्वरचित एवं मौलिक )

© अजित कुमार “कर्ण” ✍️
~ किशनगंज ( बिहार )
दिनांक :- 07 / 04 / 2022.
___________🙏___________

4 Likes · 140 Views
You may also like:
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
प्यार
Swami Ganganiya
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
# मां ...
Chinta netam " मन "
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
मेहनत
Arjun Chauhan
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शहीद भारत यदुवंशी को मेरा नमन
Surabhi bharati
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
Loading...