Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2022 · 1 min read

“साहित्यकार भी गुमनाम होता है”

“साहित्यकार भी गुमनाम होता है”
!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

ज्यों मैंने आवाज़ उठाई ,
‘पर’ ही मेरा कतर दिया ।
अपनी लाज बचाना चाहा,
झट से लज्जित कर दिया।

अरे , न्याय ही तो माॅंगा था ,
घोर अन्याय क्यों कर दिया ?
हमारे कलम की ताक़त को ,
रोकने का दुस्साहस जो किया।

अभिव्यक्ति कैसे रोकोगे ?
कभी पकड़ नहीं पाओगे ।
तुम एक अल्फ़ाज़ रोकोगे ,
सैकड़ों अल्फ़ाज़ निकलेंगे।

मेरे शब्द बड़े ही नाज़ुक हैं,
पर यही तो मेरी ताकत है।
फूल सा कोमल न समझो,
ये तलवार से भी घातक हैं।

जब ये सचमुच में बोलेंगे ,
तेरे रोम रोम कंपित होंगे ।
सबके ही न्याय के वास्ते ,
भले खुद हम लज्जित होंगे।

फ़क़त झूठ के पुलिंदे से ,
कितना तुम बढ़ पाओगे ।
ये ख़िज़ां का वक्त है तेरा ,
तुम खुद से मिट जाओगे ।

साहित्य के मूल्य को समझो ,
वरना संभल कभी न सकोगे।
अपने निजी स्वार्थ के चलते ,
साहित्य को गर्त में डुबो दोगे।

इन्हीं सब कारनामों के चलते ,
कभी साहित्य बदनाम होता है।
तेरे जैसे निकृष्ट सोच के चलते ,
साहित्यकार भी गुमनाम होता है।

( स्वरचित एवं मौलिक )

© अजित कुमार “कर्ण” ✍️
~ किशनगंज ( बिहार )
दिनांक :- 07 / 04 / 2022.
___________🙏___________

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Likes · 346 Views
You may also like:
☘️🍂🌴दे रही है छाँव तुमको जो प्रेम की🌴🍂☘️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंतजार
Anamika Singh
हिन्दी
Saraswati Bajpai
'देवरापल्ली प्रकाश राव'
Godambari Negi
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
समय की गर्दिशें चेहरा बिगाड़ देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
आदिवासी -देविता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
✍️बर्दाश्त की हद✍️
'अशांत' शेखर
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
चूहा दौड़
Buddha Prakash
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्यादों की कुर्बानी
Shekhar Chandra Mitra
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
तेरे ख़त
Kaur Surinder
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
इश्क की आग।
Taj Mohammad
तलाश
Shyam Sundar Subramanian
*गणेश वंदना (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
I sat back and watched YOU lose me.
Manisha Manjari
परख किसको है यहां
Seema 'Tu hai na'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
माँ धनलक्ष्मी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
चिरनिन्द्रा
विनोद सिल्ला
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
सिर्फ एक रंगे मुहब्बत के सिवा
shabina. Naaz
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
शंकर छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
Loading...