Oct 12, 2016 · 1 min read

सासों में सासे अब गुलने लगी/मंदीप

सासो में सासे अब गुलने लगी/मंदीप

बातो में बात अब मिलने लगी,
सासों में सासे अब गुलने लगी।

जब भी लूँ हाथो में हाथ तुमारा,
दिल की दड़कने बढ़ने लगी।

लूँ देख मै तेरे योवन को,
आँखे मेरी अब झुकने लगी।

ख्वाबो में ना तुम आया करों ,
अब नींद मेरी अब उडने लगी।

क्यों हो गया तुम से इतना लगाव,
चाहतें मेरी खुदी से बोलने लगी।

अब ना होना हम से कभी दूर,
ये सोच कर “मंदीप्” की धड़कनें थमने लगी।

मंदीपसाई

127 Views
You may also like:
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
वतन से यारी....
Dr. Alpa H.
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
दर्द।
Taj Mohammad
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
मेरे पापा।
Taj Mohammad
मां
Umender kumar
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
Loading...