Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2016 · 1 min read

सासों में सासे अब गुलने लगी/मंदीप

सासो में सासे अब गुलने लगी/मंदीप

बातो में बात अब मिलने लगी,
सासों में सासे अब गुलने लगी।

जब भी लूँ हाथो में हाथ तुमारा,
दिल की दड़कने बढ़ने लगी।

लूँ देख मै तेरे योवन को,
आँखे मेरी अब झुकने लगी।

ख्वाबो में ना तुम आया करों ,
अब नींद मेरी अब उडने लगी।

क्यों हो गया तुम से इतना लगाव,
चाहतें मेरी खुदी से बोलने लगी।

अब ना होना हम से कभी दूर,
ये सोच कर “मंदीप्” की धड़कनें थमने लगी।

मंदीपसाई

175 Views
You may also like:
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मत करना
dks.lhp
सब से खूबसूरत
shabina. Naaz
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
गणपति वंदना (कैसे तेरा करूँ विसर्जन)
Dr Archana Gupta
✍️हलाल✍️
'अशांत' शेखर
काँच के टुकड़े तख़्त-ओ-ताज में जड़े हुए हैं
Anis Shah
हालात-ए-दिल
लवकुश यादव "अज़ल"
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
ढलती जाती ज़िन्दगी
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
ये वादा करते हैं।
Taj Mohammad
बंधन
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
दर्द होता है
Dr fauzia Naseem shad
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
सृजन की तैयारी
Saraswati Bajpai
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
तुझे मतलूब थी वो रातें कभी
Manoj Kumar
Loading...