Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

सावन

सावन भादो तुम जरा ,बरसो दिल के गाँव
तपन जरा इसकी हरो , बादल की दो छाँव
बादल की दो छाँव,थके गम सहते सहते
सूख गए हैं अश्क,सभी अब बहते बहते
दिल को है विश्वास , खिलेंगे अपने तन मन
खुशियों की बरसात, करेगा जब ये सावन

डॉ अर्चना गुप्ता

3 Comments · 393 Views
You may also like:
क्या बताये वो पहली नजर का इश्क
N.ksahu0007@writer
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
SHAMA PARVEEN
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Book of the day: मालव (उपन्यास)
Sahityapedia
चित्कार
Dr Meenu Poonia
हादसा बन के
Dr fauzia Naseem shad
जेंडर जेहाद
Shekhar Chandra Mitra
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
बेटी की विदाई
प्रीतम श्रावस्तवी
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*!* कच्ची बुनियाद जिन्दगी की *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सीख
Pakhi Jain
नहीं आये कभी ऐसे तूफान
gurudeenverma198
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरे दुःख दर्द कितने सुर्ख है l
अरविन्द व्यास
*पितृदेव (गीत)*
Ravi Prakash
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
'अशांत' शेखर
मुलाकात
Buddha Prakash
जान से प्यारा तिरंगा
डॉ. शिव लहरी
*"खुद को तलाशिये"*
Shashi kala vyas
आस और विश्वास।
लक्ष्मी सिंह
Loading...