Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 6, 2021 · 1 min read

सावन सुहावना सा

मनहरण घनाक्षरी

सावन सुहावन सा,लगे मनभावना सा,
काले काले मेघ आए,देख सुख पाइए।

मयूर मगन नाचे,पपीहा के बोल साँचे,
कोयल के गीत भाए,झूम झूम जाइए।

होती बरसात भली,खिल उठे कली-अली,
हरी भरी धरती लगे,आनंद उठाइए।

फेन उगले झरने,नदियाँ लगी बहने
खेत में किसान झूमे,गीत नया गाइए।।

अभिलाषा चौहान’सुज्ञ’
स्वरचित मौलिक

282 Views
You may also like:
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
"अशांत" शेखर
✍️जन्नतो की तालिब है..!✍️
"अशांत" शेखर
आज भी याद है।
Taj Mohammad
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
शारीरिक भाषा (बाॅडी लेंग्वेज)
पूनम झा 'प्रथमा'
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
धोखा
Anamika Singh
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
✍️खुदाओं के खुदा✍️
"अशांत" शेखर
मुझे तो सदगुरु मिल गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
रास्ता
Anamika Singh
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
हक़ीक़त ने किसी ख़्वाब की
Dr fauzia Naseem shad
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
अनामिका के विचार
Anamika Singh
हिंदी दोहे बिषय-मंत्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कभी जमीं कभी आसमां बन जाता है।
Taj Mohammad
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
“आनंद ” की खोज में आदमी
DESH RAJ
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
"अशांत" शेखर
मित्र दिवस पर आपको, प्यार भरा प्रणाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...