Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सावन जैसी झड़ी

रूक रुक कर होती ये बरसात ठीक नहीं,
मेरे लिए आपके ये ख्यालात ठीक नहीं।

मत लगाओ प्रभु ये सावन जैसी झड़ी,
जानते हो आप तो मेरे हालात ठीक नहीं।

कर्ज़ के बोझ में हर पल मरा जा रहा हूँ,
ऊपर से आपका कहर, ये बात ठीक नहीं।

अन्नदाता होकर भूख से तड़पना पड़े मुझे,
हे प्रभु! बस आपकी ये करामात ठीक नहीं।

इच्छाएं क्या, प्रभु जरूरतें पूरी नहीं होती,
और आप कहते हो ये सवालात ठीक नहीं।

बनकर देखो किसान, ये दर्द समझ जाओगे,
खुद कहोगे गम की इतनी लंबी रात ठीक नहीं।

मैं लटकना तो चाहता था फाँसी के फंदे पर,
पर सुलक्षणा बोली ऐसी मुलाकात ठीक नहीं।

©® डॉ सुलक्षणा

2 Likes · 2 Comments · 316 Views
You may also like:
बचपन को जिसने अपने
Dr fauzia Naseem shad
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
भटकता चाँद
Alok Saxena
ऊंची शिखर की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
✍️हम भारतवासी✍️
'अशांत' शेखर
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
पत्ते
Saraswati Bajpai
प्यार करने की कभी कोई उमर नही होती
Ram Krishan Rastogi
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️✍️दोस्त✍️✍️
'अशांत' शेखर
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
समय के संग परिवर्तन
AMRESH KUMAR VERMA
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
'अशांत' शेखर
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
छलकाओं न नैना
Dr.Alpa Amin
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
इन्साफ
Alok Saxena
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
Loading...