Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2022 · 1 min read

सावन आया आई बहार

सावन आया,आई बहार
तु क्यो नही आया सजना।
सखी सहेली सब पूँछ रही है,
क्यों नही आया तेरा सजना।
मै क्या बताऊँ उन सखियों को
क्यों नही आया मेरा सजना।
सावन आया,आई बहार
तु क्यों नही आया सजना।
सबके घर में छाई है बहार
मेरे घर में खामोशी सजना।
सखी सहेली सब लगा रही है मेहंदी,
बालों मे लगा रही है गजरा।
सब अपने साजन के लिए ,
सज रही है सजना।
सबके साजन आए है,
बस तु ही नही आया है सजना
सब पर सावन की खूबसूरती का
चढ गया है खुमार ।
मै बेरंग सी बैठी हूँ,
कर रही हूँ तेरा इन्तज़ार।
अब आ भी जाओं तुम सजना
अब नही कराओ और इंतजार ।
सखी सहेली सब छेर रही है
अब नही और हमें तुम सताओं।
अब नही और हमें तुम सताओं ।
अब तो जल्दी घर आ जाओं।
मेरे नैना देख रही है बाँट।
अब और देर नही करो तुम सजना
बीत रहा है सावन।
अब तो जल्दी से घर आ जाओ
कही बीत नही जाए सावन।

अनामिका

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 2 Comments · 188 Views
You may also like:
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कुछ रिश्ते...
✍️कुछ रिश्ते...
'अशांत' शेखर
पेड़ पौधों के प्रति मेरा वैज्ञानिक समर्पण
पेड़ पौधों के प्रति मेरा वैज्ञानिक समर्पण
Ankit Halke jha
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
How long or is this
How long or is this "Forever?"
Manisha Manjari
मैं भौंर की हूं लालिमा।
मैं भौंर की हूं लालिमा।
Surinder blackpen
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कहानी- प्यारे चाचा
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
अस्फुट सजलता
अस्फुट सजलता
Rashmi Sanjay
दयानंद आर्य कन्या डिग्री कॉलेज मुरादाबाद का संस्थापक दिवस
दयानंद आर्य कन्या डिग्री कॉलेज मुरादाबाद का संस्थापक दिवस
Ravi Prakash
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
■ सत्ता की सौगात...
■ सत्ता की सौगात...
*Author प्रणय प्रभात*
समय पर संकल्प करना...
समय पर संकल्प करना...
Manoj Kushwaha PS
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
Pravesh Shinde
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं...
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
होता है
होता है
Dr fauzia Naseem shad
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नारी मुक्ति का सपना
नारी मुक्ति का सपना
Shekhar Chandra Mitra
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
Sonu sugandh
#सुप्रभात
#सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
ये कुछ सवाल है
ये कुछ सवाल है
gurudeenverma198
मैं पिता हूं।
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कलाकार
कलाकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बुद्ध भक्त सुदत्त
बुद्ध भक्त सुदत्त
Buddha Prakash
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
subhash Rahat Barelvi
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
DEVESH KUMAR PANDEY
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
Loading...