Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

सावधानी में सुरक्षा

☺सावधानी हटी दुर्घटना घटी☺
………………………………….
खुश थे वो बच्चे की आयेंगे पापा
लेकर मिठाई खिलायेंगे पापा,
हाथों से अपने हमको खिलाकर
लगाकर गले से सुलायेंगे पापा।
इन्तजार में द्वारे खड़ी सुकुमारी
पत्नी वो उसकी थी कितनी वो प्यारी।
लगी थी निगाहें सडक के किनारे
सजनी की नजरें सजन को निहारे।
अभी भी न आये गये दिन ये सारे
नजाने कब आयेंगे सजना हमारे।
सजन जी न आये एक संदेश आया
प्रितम तुम्हारा काल गाल में समाया।
बाईक की सवारी थी स्पीड ज्यादा
सर पे न हेलमेट न कोई सहारा
भागता रहा बीन देखे दायें बाये
सुरक्षा नीति जैसे उसनें बनाये।
एक चूक हुई टूटा जिन्दगी का तारा
गलती किसीकी हुये कितने बेसहारा।
पहले जो सोचता न चूक ऐसी होती
प्रमुग्धा वो पत्नी न फुट-फुट रोती।
कही भी कभी भी जाओ तुम प्यारे
रखना स्मरण है कई तेरे सहारे
बच्चों की खुशियां है बीवि का आश तूं
माता पिता का एकलौता प्रकाश तूं
“सचिन” ऐसी गलती न करना दोबारा
दुनिया की रीत एक दूजे का सहारा।।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

242 Views
You may also like:
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
सुन्दर घर
Buddha Prakash
बहुमत
मनोज कर्ण
पापा
सेजल गोस्वामी
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
Loading...