Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 14, 2022 · 1 min read

सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं

सागर की लहरें रूक सी गई हैं
काली घटाएं झुक सी गई हैं
जबसे आए हो तुम पास हमारे
सारी फिजाएं छुप सी गई हैं
सागर की लहरें……
जाग उठी हैं दिल में तरंगें
जाग उठी हैं मन में उमंगें
खामोशियां जैसे छंट सी गई हैं
सारी फिज़ाएं…….
नहीं रहा अब घोर अंधेरा
चहूं और यूं खिला सवेरा
मायूसियां जैसे हट सी गई हैं
सारी फिज़ाएं…….
ख्वाब ले रहे हैं अंगड़ाई
दूर हुई ग़म की परछाईं
तन्हाइयां जैसे मिट सी गई हैं
सारी फिज़ाएं…….
इंद्रधनुषी रंग हैं बिखरे
सप्त सुर जैसे हैं निखरे
“विनोद”महफ़िल सज सी गई है
सारी फिज़ाएं…….

3 Likes · 2 Comments · 83 Views
You may also like:
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सफर में।
Taj Mohammad
माँ
Dr Archana Gupta
मिसाइल मैन
Anamika Singh
डॉक्टर (मुक्तक)
Ravi Prakash
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
सौगंध
Shriyansh Gupta
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रामपुर में दंत चिकित्सा की आधी सदी के पर्याय डॉ....
Ravi Prakash
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
मालूम था।
Taj Mohammad
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
हालात
Surabhi bharati
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
✍️सिर्फ…✍️
"अशांत" शेखर
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीना अब बे मतलब सा लग रहा है।
Taj Mohammad
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विनती
Anamika Singh
Loading...