Oct 19, 2016 · 1 min read

सारंगों के नयन आज फिर भर आये:: जितेंद्रकमल आनंद( गीत)पोस्ट५३

गीत ::: सारंगों के नयन आज फिर भर अाये
—- अपने ही पग देख धरा के आँगन में –
सारंगों के नयन आज फिर भर आये ।।

कुम्हलायी कलियों की अन्तर्दाहों में –
मधुर गंध, मकरंद -; स्पंद की चाहों भरी ।
पर्णों के मुख गहन ऩदाकी की छाया ।
बल्ंलरियो ने मौन आतपी आह भरी ।
तरुओं को उन्मना देखकर कानन में —
सारंगों के नयन आज फिर भर आये ।।

जल कर जल की आस सरोवर अकुलाये ।
लगी डोलने पुरबाईविश्वास भरा ।
जंगल — जंगल जगी तृप्ति की अभिलाषा
स्स्मृति में कौंधा फिर से इतिहास हरा ।
सारंगों को सधा देख पद्मासन में —
सारंगों के नयन आज फिर भरसआये ।।
—;जितेन्द्र कमल आनंद

100 Views
You may also like:
वो
Shyam Sundar Subramanian
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
प्रार्थना
Anamika Singh
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
**किताब**
Dr. Alpa H.
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H.
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
The Magical Darkness
Manisha Manjari
Loading...