Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-202💐

साधना में भी वेदना होती है और वेदना में भी साधना का अनुभव होता है।होते बहुत गहन हैं।यदि आपकी साधना और वेदना दोनों शुद्ध प्रेम की वाहक हों।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
88 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
आपकी यादें
आपकी यादें
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
Acharya Rama Nand Mandal
अपने ही शहर में बेगाने हम
अपने ही शहर में बेगाने हम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
एक जिंदगी एक है जीवन
एक जिंदगी एक है जीवन
विजय कुमार अग्रवाल
द कुम्भकार
द कुम्भकार
Satish Srijan
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
हम है वतन के।
हम है वतन के।
Taj Mohammad
व्यथा
व्यथा
Kavita Chouhan
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
हम छि मिथिला के बासी,
हम छि मिथिला के बासी,
Ram Babu Mandal
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
Ravi Prakash
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
दुकान वाली बुढ़िया
दुकान वाली बुढ़िया
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
अधमरा जीने से
अधमरा जीने से
Dr fauzia Naseem shad
डिजिटलीकरण
डिजिटलीकरण
Seema gupta,Alwar
विद्रोही
विद्रोही
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
चांद बहुत रोया
चांद बहुत रोया
Surinder blackpen
हो जाऊं तेरी!
हो जाऊं तेरी!
Farzana Ismail
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मीठा खाय जग मुआ,
मीठा खाय जग मुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐प्रेम कौतुक-363💐
💐प्रेम कौतुक-363💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...