Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Aug 29, 2016 · 1 min read

साथ हमको कभी तो तुम्हारा मिले

साथ हमको कभी तो तुम्हारा मिले
ज़िन्दगी को जरा सा सहारा मिले

गर न लाये ज़माना ये तूफ़ान तो
प्यार की कश्तियों को किनारा मिले

यूँ लगे खेलते बच्चों को देखकर
काश बचपन हमें फिर दुबारा मिले

प्यार को प्यार दें वो जरुरी नहीं
पर जरा तो उधर से इशारा मिले

टूट जायेगी नफरत की दिवार खुद
दिल से दिल’अर्चना’गर हमारा मिले

डॉ अर्चना गुप्ता

4 Comments · 187 Views
You may also like:
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
के के की याद में ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
कहानियां
Alok Saxena
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
नदियों का दर्द
Anamika Singh
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
ताला-चाबी
Buddha Prakash
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
मत करना
dks.lhp
✍️आझादी की किंमत✍️
"अशांत" शेखर
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
पिता
Santoshi devi
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...